Also Read - 'पीएम मोदी कृषि बिल को ऐतिहासिक बता रहे हैं, वाकई ये है तो किसान ख़ुश क्यों नहीं'

नई दिल्ली। नीरव मोदी से जुडे घोटाले की अनदेखी करने का आरोप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज यहां कहा कि उन्हें (मोदी को) यह बताना चाहिए कि इतना बड़ा घोटाला क्यों और कैसे हुआ और वह इस बारे में क्या कर रहे हैं? कांग्रेस अध्यक्ष ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के हवाले से कहा कि इतना बड़ा घोटाला ‘ऊपर के संरक्षण के बिना’ हो ही नहीं सकता. Also Read - राज्यसभा में दोनों कृषि विधेयक पास, पीएम मोदी बोले- अन्नदाताओं को आजादी मिली, जारी रहेगी सरकारी खरीद

Also Read - PoK वाले बयान पर बोलीं कंगना रनौत- मुझे मुंबई को पीओके की जगह 'सीरिया' कहना चाहिए था

राहुल ने कांग्रेस की संचालन समिति की बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बच्चों को यह बता रहे हैं कि परीक्षाएं कैसे दी जाएं लेकिन वह यह नहीं बता रहे हैं कि यह घोटाला कैसे हुआ. कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया कि इस घोटाले की शुरुआत आठ नवंबर 2016 को तभी हो गई थी जब प्रधानमंत्री ने 500 और एक हजार रुपये के नोट को चलन से बाहर कर दिया और देश का सारा पैसा बैंकिंग प्रणाली में डाल दिया.

उन्होंने कहा कि इसी वजह से 22 हजार करोड़ रुपये बैंक से निकाल लिए जाते हैं. उन्होंने पूछा कि जनता के इस पैसे को लेकर हुए इस घोटाले के लिए कौन जिम्मेदार है. लोकसभा में अमेठी का प्रतिनिधित्व करने वाले राहुल ने कहा कि इस घोटाले के बारे में जिन लोगों को नहीं बोलना चाहिए वह बोल रहे हैं और प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री की इस पर बोलने की जिम्मेदारी है लेकिन वह चुप हैं.

पढ़ें- सिंघवी की सफाई, मेरी पत्नी-बेटों का नीरव मोदी से लेना-देना नहीं, दी मानहानि केस की चेतावनी

राहुल ने आरोप लगाया कि इतने बड़े स्तर के घोटाले की प्रधानमंत्री अनदेखी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि इतना बड़ा घोटाला उच्च स्तर के संरक्षण के बिना किया ही नहीं जा सकता है. यह पूछने पर कि नीरव मोदी के साथ आपके व्यक्तिगत संबंध हैं, तो कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि यह सब इस मामले से ध्यान भटकाने की एक कोशिश है.