सहारनपुर: भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) के राष्टीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि जब तक एमएसपी (MSP) पर कानून नहीं बनेगा और नए कृषि कानून (New Farm Laws) वापस नहीं होंगे तब तक किसानों का आंदोलन (Kisan Andolan) जारी रहेगा. राकेश टिकैत ने यह बात रविवार को सहारनपुर जिले के नागल मार्ग स्थित लाखनौर गांव में किसानों की महापंचायत (Kisan Maha Panchayat) को सम्बोधित करते हुए कही. उन्होंने कहा जिस तरीके से पहले गोदाम बनाये गये और बाद में कानून बनाया गया, वह किसानों के साथ धोखा है. Also Read - Farmers Protests: राकेश टिकैत ने कहा-सरकार को किसानों के साथ शाहीन बाग जैसा बर्ताव नहीं करना चाहिए

विपक्ष की मजबूती पर अपने विचार व्यक्त करते हुए टिकैत ने कहा कि विपक्ष का मजबूत होना बहुत जरूरी है, यदि विपक्ष मजबूत होता तो केन्द्र सरकार किसान विरोधी कृषि कानून लागू नहीं कर पाती. टिकैत ने कहा,‘‘किसान अपनी जमीन को औलाद की तरह प्यार करता है फिर वह कैसे अपनी जमीन को बड़ी कम्पनियो के हाथों में सौंप सकता है?’’ उन्होंने कहा, ‘‘खेती में घाटा होने के बावजूद किसान अपनी जमीन पर पसीना बहाते हुए खेती करता है जबकि व्यापारी नुकसान होने पर अपना शहर छोड़कर दूसरे शहर मे जाकर व्यापार करने लगता है, अपना व्यापार बदल लेता है लेकिन किसान सिर्फ खेती ही करता है और उसका परिवार उसी खेती पर टिका होता है.’’ Also Read - राजस्थान में राकेश टिकैत के काफिले पर हमला, कार के शीशे टूटे; 4 आरोपी गिरफ्तार

राकेश टिकैत ने केन्द्र की आलोचना करते हुए कहा कि सरकार ने किसान के आगे कंटीले तार लगाकर किसान की भावनाओं को भड़काने का काम किया है, यही नहीं तिरंगे के लिये भी सरकार ने किसानों का अपमान किया है जबकि वास्तविकता यह है कि तिरंगे का सबसे ज्यादा सम्मान गांव के लोग करते हैं. उन्होंने कहा कि सरकार को भ्रम है कि किसान गेंहु की कटाई मे लग जायेगा, लेकिन सरकार यह बात समझ ले कि किसान गेंहु की कटाई भी करेगा और आन्दोलन भी करेगा. टिकैत ने कहा कि किसान सरकार से संशोधन नहीं चाहता बल्कि नये कृषि कानून की समाप्ति चाहता है, जब तक कानूनों को वापस नहीं लिया जाता तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा. Also Read - बंगाल चुनाव: राकेश टिकैत ने नंदीग्राम में की किसान महापंचायत, बोले- BJP को वोट न देना, अब संसद पर फसल बेचेंगे