लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ धर्म के आधार पर भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि न सिर्फ उनकी पार्टी बल्कि देश की आत्मा को समझने वाले सभी लोग संशोधित नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं. अखिलेश ने कहा कि जहां तक सीएए का सवाल है, केवल सपा ही नहीं बल्कि देश की आत्मा को समझने वाला हर व्यक्ति इसका विरोध कर रहा है . ‘मुझे खुशी है कि महिलाओं ने बढत ली और बडी संख्या में युवा भी प्रदर्शन कर रहे हैं.’

भाजपा ने लगाया विपक्ष पर आरोप, कांग्रेस को कहा- पार्टी का नाम ‘मुस्लिम लीग कांग्रेस’ होना चाहिए

पार्टी नेता जनेश्वर मिश्र की पुण्यतिथि पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद अखिलेश ने कहा कि महात्मा गांधी और भीमराव आंबेडकर भेदभाव के खिलाफ थे. उन्होंने भाषा और धर्म के नाम पर भेदभाव नहीं किया. उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा धर्म के नाम पर भेदभाव कर रही है और समाज को बांट रही है. भाजपा संविधान से खिलवाड़ कर रही है क्योंकि उसके पास बहुमत है, लेकिन बहुमत से वे आम आदमी की आवाज को दबा नहीं पाएंगे.

सुप्रीम कोर्ट का CAA पर रोक लगाने से इनकार, संवैधानिक बेंच को भेजा जा सकता है मामला

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में अखिलेश ने कहा कि योगी अपने भाषणों में कहते हैं, ‘ठोंक दिया जाएगा’. यह किसी राजनेता की भाषा नहीं हो सकती है. भाजपा ने वोट की खातिर चुनावी रैलियों के दौरान कब्रिस्तान और श्मशान तथा दीवाली और रमजान का मुददा उठाया.