बनिहाल/ जम्मू: जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर हुए दो अलग-अलग हादसों में आठ साल के बच्चे समेत तीन लोगों की मौत हो गई. अधिकारियों ने बताया कि ताजा बर्फबारी के चलते तकरीबन 17 घंटे तक बंद रहने के बाद यह राजमार्ग फंसे हुए वाहनों को निकालने के लिए शनिवार को दोबारा खोला गया.

अधिकारियों ने हालांकि बताया कि हजारों फंसे हुए यात्रियों को सही ढंग से वहां से निकालने के लिए सुबह जम्मू या श्रीनगर से किसी नये वाहन को यहां से गुजरने की अनुमति नहीं दी गई. इस बीच, सुबह में जम्मू और क्षेत्र के कुछ हिस्सों में सूरज नजर आने के बाद लोगों को भीषण ठंड से कुछ राहत मिली. यहां पिछले पांच दिनों से आसमान साफ नहीं था. अधिकारियों ने बताया कि बडगाम के आठ साल के मुहम्मद मुजामिल और 20 साल के मोहम्मद इमरान की शुक्रवार देर शाम मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए जब जम्मू जाने वाले यात्री वाहन पर रामबन जिले में गंगरु के पास पहाड़ से पत्थर गिरने लगे.

अधिकारियों ने बताया कि एक अन्य घटना में, पुलवामा जिले के ट्रक चालक गुलाम मोहम्मद जू की उस वक्त मौत हो गई जब वह अपने ट्रक को ढकते हुए वह गहरे खड्ड में गिर गया. अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर को देश के बाकी हिस्से से जोड़ने वाले 27 किलोमीटर लंबे इस राजमार्ग पर शुक्रवार शाम साढ़े पांच बजे गाड़ियों की आवाजाही जवाहर सुरंग इलाके में ताजा बर्फबारी के बाद रोक दी गई थी. इसकी वजह से आठ हजार से ज्यादा गाड़ियां फंस गई थीं.

उन्होंने बताया कि बारिश ने भी पूरे राजमार्ग को प्रभावित रखा जहां रामसू और पंथियाल के बीच रात भर कई भूस्खलन हुए. अधिकारियों ने बताया कि मार्ग शनिवार सुबह को ही साफ किया जा सका जहां केवल फंसे हुए वाहनों को उनके गंतव्य तक जाने की अनुमति दी गई. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि बनिहाल में 1.5 सेंटीमीटर ताजा बर्फबारी हुई है और वह जम्मू क्षेत्र की सबसे ठंडी जगह रहा जहां न्यूनतम तापमान शून्य से 0.5 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया.

(इनपुट- एजेंसी)