जम्मूः अनुच्छेद 370 हटने के बाद से जम्मू और कश्मीर में सुरक्षा एजेंसियां और पुलिस दोनों से पूरी तरह से चाक चौबंद है. पुलिस को अंदेशा है कि पाकिस्तान लगातार आतंकियों को घाटी में प्रवेश कराने की कोशिश कर रहा है जिसके मद्देनजर घाटी में पुलिस लगातार छान बीन और जांच भी कर रही है. गुरुवार को आतंकी गतिविधियों में सहायता करने के संदेह में जम्मू-पठानकोट राजमार्ग पर गुरुवार को एक ट्रक में सफर कर रहे तीन कश्मीरियों को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस अधिकारियों ने इस गिरफ्तारी की जानकारी दी.

शरद पवार के ईडी कार्यालय पहुंचने से पहले दक्षिण मुंबई में धारा 144 लागू

अधिकारियों ने बताया कि गिरफ्तार व्यक्तियों से पूछताछ के बाद, उनके सहयोगियों को पकड़ने के लिए जम्मू-कश्मीर और पड़ोसी पंजाब के विभिन्न हिस्सों में छापे मारे गए. इसमें चार और लोगों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है. गिरफ्तार किए गए लोगों में इम्तियाज अहमद नेंग्रू शामिल है, जिसके भाई रियाज नेंग्रू को सितंबर 2018 में जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) संगठन से जुड़े तीन पाकिस्तानी आतंकवादियों को जम्मू से कश्मीर ले जाते समय गिरफ्तार किया गया था. गिरफ्तार किये गए लोगों से पूंछताछ चल रही है, पुलिस को उम्मीद है कि इससे कई खुलासे होंगे

एमपी का हाई-प्रोफाइल हनी ट्रैप केस: गिरफ्तार 19 साल की कॉलेज छात्रा बनेगी सरकारी गवाह

ऐसा भी माना जा रहा है कि पाकिस्तान आम नागरिकों को अपने जाल में फंसाने की भी कोशिश कर रहा है सुरक्षा एजेंसियों ने उसकी सभी चाल नाकामयाब कर दी हैं. आपको बता दें कि 5 अगस्त के बाद से पाकिस्तान पूरी तरह से बौखलाया हुआ है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह कहता फिर रहा है कि भारत कश्मीरियों पर ज्यादती कर रहा है और अनुच्छेद 370 में उसने एक तरफा फैसला लिया है. दुनिया के शीर्ष देशों ने इस मुद्दे पर भारत का साथ दिया और कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है.