नई दिल्‍ली: देश की राजधानी दिल्‍ली के निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण का मामला सोमवार को सामने आया था. मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मामले में दूसरे दिन मंगलवार को कहा, जहां लोगों की जान को खतरा हो, मैं सख्त कार्रवाई करने से नहीं हिचकूंगा. उन्‍होंने बताया कि निजामुद्दीन मरकज से लाए गए 1,548 लोगों में से 441 में लक्षण नजर आए, जिनके टेस्‍ट कराए जा रहे हैं. Also Read - कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए होटलों के इस्तेमाल पर पुनर्विचार करे दिल्ली सरकार: भारतीय उद्योग परिसंघ


दिल्‍ली में 97 मामलों में से 24 केस निजामुद्दीन मरकज से हैं. 41 की विदेश यात्रा की हिस्‍ट्री है और 22 विदेशी यात्री परिवारों के सदस्‍य हैं. मुख्‍यमंत्री केजवरीवाल ने कहा, दिल्ली में कोरोना वायरस का संक्रमण अभी तक समुदाय के स्तर पर नहीं पहुंचा है.

सीएम केजरीवाल ने कहा, अभी तक 1,548 लोगों को निजामुद्दीन मरकज से लाया गया है, जिनमें से 441 में लक्षण नजर आ रहे हैं. उन्‍हें अस्‍पतालों में शिफ्ट किया गया है और उनके टेस्‍ट कराए जा रहे हैं. 1,107 लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण नजर नहीं आए, उन्‍हें क्‍वारंटीन में भेजा गया है.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, दिल्ली सरकार ने निजामुद्दीन के धार्मिक आयोजन के संबंध में प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखा है. उन्‍होंने कहा, ऐसे मामलों में जहां लोगों की जान को खतरा हो, मैं सख्त कार्रवाई करने से नहीं हिचकूंगा.