नई दिल्‍ली: देश में अभी तक कोरोना वायरस से कुल 4,421 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है और बीते 24 घंटे में 354 नए मामले सामने आए हैं और अब तक 117 लोगों की मौत हुई है. ये बात मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी ने आयोजित रुटीन प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कही. वहीं, संभावित स्थिति के मद्देनजर रेलवे के 2500 कोचों में 40,000 आइसोलेशन बेड तैयार किए गए हैं. Also Read - डोकलाम के बाद भारत और चीन की सेनाओं के बीच हो सकती है सबसे बड़ी सैन्य तनातनी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, अभी तक COVID19 के पॉजिटिव मामले 4,421 है, जिसमें पिछले 24 घंटे में 354 नए केस शामिल हैं. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि अभी तक 326 लोगों को ठीक होने के बाद डिस्‍चार्ज किया जा चुका है. मंत्रालय ने बताया कि कोरोना वायरस से अब तक 117 लोगों की मौत हुई है. Also Read - कोरोना वायरस से प्रभावित टॉप 10 देशों की सूची में पहुंचा भारत, जून के अंत तक बहुत तेजी से बढ़ेंगे मामले

स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने कहा, सरकार क्लस्टर नियंत्रण और प्रकोप के लिए एक उत्‍तरदायी प्रबंधन की रणनीति अपना रही है. यह रणनीति सकारात्मक परिणाम ला रही है, विशेष रूप से आगरा, गौतम बौद्ध नगर, पठानमथिट्टा, भीलवाड़ा और पूर्वी दिल्ली में.

स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के संयुक्‍त सचिव ने कहा, इंडियन रेलवे ने 2500 कोचों में 40,000 आइसोलेशन बेड तैयार किए हैं. रेलवे हर दिन 375 आइसोलेशन बेड तैयार कर रही है और देशभर में 133 जगहों पर यह चल रहा है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारी पीएस श्रीवास्‍तव ने बताया कि जरूर वस्‍तुओं और सेवाएं काफी हदतक संतोषजनक है. गृहमंत्री ने विस्‍तार से आवश्‍यक चीजों और लॉकडाउन के मापदंडों का रिव्‍यू किया है. उन्‍होंने जरूरी कदम उठाने के लिए कहा है और सुनिश्‍चित किया है कि जमाखोरी और कालाबाजारी न हो.

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि हाल में आईसीएमआर की स्‍टडी बताती है कि यदि कोविड 19 का एक मरीज भी लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं करता है और सोशल डिस्‍टेंशिंग का पालन नहीं करता है तो वह 30 दिन में 406 लोगों को बीमार कर सकता है.

ICMR के आर गंगाखेडकर ने कहा ने अभी तक 1,07,006 टेस्‍ट किए गए हैं और वर्तमान में 136 सरकारी लैब काम कर रहीं हैं और 59 निजी लैबों को परमिशन दी गई है.