नई दिल्लीः पिछले एक हफ्ते से ज्यादा समय से देश की राजधानी दिल्ली भारी प्रदूषण की मार झेल रही है. दिल्ली में प्रदूषण की समस्या इतनी गंभीर हो गई है कि खुद देश के सर्वोच्च न्यायालय को भी इस बारे में संज्ञान लेना पड़ा. प्रदूषण को कम करने के लिए दिल्ली सरकार ने राजधानी में एक बार फिर से ऑड-ईवन सिस्टम को लागू किया है. आज यानि मंगलवार को ऑड ईवन का दूसरा दिन है.

सोमवार से लागू हुआ यह नियम 15 नवंबर तक जारी रहेगा. गौरतलब है कि इस नियम के तहत ऑड-ईवन नियम के तहत ऑड (विषम- 1,3,5,7,9) तारीख को ऑड नंबर की कार और ईवन (सम संख्या – 2,4,6,8,0) तारीख को इवन नंबर की कार चलेगी.

सम विषम योजना के सख्त अनुपालन के लिए दिल्ली यातायात पुलिस, परिवहन एवं राजस्व विभागों की सैकड़ों टीमें तैनात की गई हैं. अभियान के दौरान लगभग 400 ट्रैफिक इंस्पेक्टर और असिस्टेंट ट्रैफिक इंस्पेक्टरों (एटीआई) को दो पालियों में तैनात किया गया है.

सरकार का कहना है कि यह नियम सब पर लागू होगा चाहे वह कोई छोटा कर्मचारी हो या फिर कोई बड़ा अधिकारी. अधिकारियों ने कहा कि इसमें किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं किया जाएगा. सोमवार को इस नियम का उल्लंघन करने पर कई लोगों के चालान काटे गए जिसमें भाजपा नेता विजय गोयल भी शामिल थे. विजय गोयल ने इससे पहले शनिवार को ही इस बात का ऐलान किया था कि वे सरकार के इस फैसले के खिलाफ जाएंगे.

योजना के तहत 4, 6, 8, 12 और 14 नवंबर को सड़कों पर विषम पंजीकरण संख्या (1, 3, 5, 7, 9) से समाप्त होने वाले चार पहिया निजी वाहनों को सड़कों पर निकलने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

इसी तरह, सम संख्या (0, 2, 4, 6, 8) के साथ समाप्त होने वाले पंजीकरण संख्या वाले वाहनों को 5, 7, 9, 11, 13 और 15 नवंबर को सड़कों पर चलने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

किनको होगी छूट, किनको नहीं मिलेगी छूट
-मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वह और उनके मंत्री भी योजना के दायरे में हैं. उन्होंने कहा था, ‘दिल्ली केबिनेट मंत्री और मुख्यमंत्री को भी ऑड-ईवन नियमों का पालन करना होगा. ‘उन्होंने कहा कि हालांकि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और अन्य केंद्रीय मंत्री इस नियम के दायरे से बाहर रहेंगे.
-महिलाओं और टू व्हीलर्स को इस नियम से छूट रहेगी
-सीएनजी गाड़ियों को इस नियम से छूट नहीं होगी
-इलैक्ट्रिक गाड़ियों को इस नियम से छूट है