नई दिल्ली: भारी बारिश के कारण आपूर्ति प्रभावित होने की वजह से दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों में टमाटर की खुदरा कीमतें ( tomatoes prices) 140 रुपए से 160 रुपए प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई हैं. कल तक टमाटर की अधिकतम खुदरा कीमतें 140 रुपए थीं. सरकारी आंकड़ों में कल टमाटर के खुदरा भाव 140 रुपए बताई थी.Also Read - Schools reopening: Tamil Nadu में 1 से 12वीं की फिजिकल कक्षाएं शुरू होंगी, 28 जनवरी से हटेगा Night Curfew

केरल (Kerala) के तिरुवनंतपुरम (Thiruvananthapuram) के सब्ज़ी बाज़ार में टमाटर की कीमतों में भारी बढ़ोतरी देखने को मिली है. एक ग्राहक ने बताया, “टमाटर का खुदरा मूल्य 140-160 रुपए के बीच है, जबकि थोक मूल्य 120 रुपए किलो है. भारी बारिश के कारण फसलों को नुकसान हुआ है, जिसके कारण कीमतें प्रभावित हुई है.” Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

Also Read - Kerala Lottery News: केरल के पेंटर को लॉटरी के टिकट ने बना दिया करोड़पति, जीत गए 12 करोड़ की राशि

देश के अधिकांश खुदरा बाजारों में सितंबर के अंत से टमाटर की कीमतें ऊंची बनी हुई हैं, लेकिन लगातार बारिश के कारण दक्षिणी राज्यों में कीमतों में भारी तेजी आई है. एक अन्‍य ग्राहक ने तमिलनाडु की राजधानी में कहा, चेन्नई में टमाटर की कीमत 80-90 रुपए प्रति किलोग्राम से अधिक है. “टमाटर ही नहीं बारिश के कारण अन्य सब्जियों (vegetable prices increasing) के दाम भी 80-90 रुपए प्रति किलो से अधिक बढ़ रहे हैं.

बता दें कि उत्तरी क्षेत्र में टमाटर की खुदरा कीमतें सोमवार को 30-83 रुपये प्रति किलोग्राम के दायरे में चल रही थीं, जबकि पश्चिमी क्षेत्र में कीमतें 30-85 रुपये प्रति किलोग्राम और पूर्वी क्षेत्र में 39-80 रुपए प्रति किलोग्राम थीं. उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा रखे जाने वाले आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है.

पिछले कुछ हफ्तों से टमाटर का अखिल भारतीय औसत मूल्य 60 रुपये प्रति किलोग्राम के उच्चस्तर पर बना हुआ है.

टमाटर की खुदरा कीमतें मायाबंदर में 140 रुपए प्रति किलोग्राम और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के पोर्ट ब्लेयर में 127 रुपए प्रति किलोग्राम पर चल रही थीं. केरल के तिरुवनंतपुरम में सोमवार को टमाटर 125 रुपए प्रति किलोग्राम था, पलक्कड़ और वायनाड में 105 रुपए प्रति किलोग्राम, त्रिशूर में 94 रुपए प्रति किलोग्राम, कोझीकोड में 91 रुपए प्रति किलोग्राम और कोट्टायम में 83 रुपये प्रति किलोग्राम पर बिक रहा था.

कर्नाटक में इसकी खुदरा कीमत मेंगलूर और तुमकुरु में 100 रुपए प्रति किलो, धारवाड़ में 75 रुपये प्रति किलो, मैसूर में 74 रुपए प्रति किलो, शिवमोगा में 67 रुपए प्रति किलो, दावणगेरे में 64 रुपए प्रति किलो थी और बेंगलुरु में 57 रुपए प्रति किलो चल रही थी.

तमिलनाडु में भी टमाटर रामनाथपुरम में 102 रुपए प्रति किलो, तिरुनेलवेली में 92 रुपये प्रति किलो, कुड्डालोर में 87 रुपए प्रति किलो, चेन्नई में 83 रुपए प्रति किलो और धर्मपुरी में 75 रुपये प्रति किलो था.

आंध्र प्रदेश में, विशाखापत्तनम में टमाटर 77 रुपए प्रति किलो और तिरुपति में 72 रुपए प्रति किलो पर बेचा गया, जबकि तेलंगाना में, वारंगल में टमाटर 85 रुपये प्रति किलो था. पुडुचेरी में सोमवार को टमाटर का खुदरा भाव 85 रुपए प्रति किलो था.

महानगरों में सोमवार को मुंबई में टमाटर 55 रुपए प्रति किलो, दिल्ली में 56 रुपये किलो, कोलकाता में 78 रुपये किलो और चेन्नई में 83 रुपए किलो बिका था. उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने 26 नवंबर को कहा था कि उत्तरी राज्यों से ताजा फसल आने से दिसंबर से टमाटर की कीमतों में नरमी आने की संभावना है.

पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में बेमौसम बारिश के कारण सितंबर के अंत से खुदरा टमाटर की कीमतों में तेजी आई है. बारिश के कारण टमाटर की फसल को नुकसान हुआ और इन राज्यों से आवक में देरी हुई. उत्तर भारत के राज्यों से देरी से आवक के बाद तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक में भारी बारिश हुई, जिससे आपूर्ति बाधित हुई और फसल को भी नुकसान हुआ. इसमें कहा गया है कि टमाटर की कीमतें अत्यधिक अस्थिर हैं और आपूर्ति श्रृंखला में किसी भी तरह की बाधा या भारी बारिश के कारण कीमतों में तेजी आती है. कृषि मंत्रालय के अनुसार, चालू वर्ष में टमाटर का खरीफ (गर्मी) उत्पादन 69.52 लाख टन है, जबकि पिछले साल 70.12 लाख टन टमाटर का उत्पादन हुआ था.