नई दिल्ली. 9 जुलाई, 2018 (सोमवार) को यूपी के बागपत जेल में मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद उत्तर प्रदेश में हड़कंप मचा हुआ है. मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने कई लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है. घटना के पीछे साजिश की बात कही जा रही है. मुन्ना बजरंगी और उसकी पत्नी पहले ही हत्या की आशंका जता रही थीं. बता दें कि मुन्ना बजरंगी के पकड़े जाने से पहले उसके ऊपर 7 लाख रुपये का इनाम था. दूसरी तरफ ये कहा जा रहा है कि यूपी से एक खूंखार अपराधी का खात्मा हो गया. हालांकि, अब भी यूपी में कई डॉन मौजूद हैं जो जरायम की दुनिया से राजनीति की दुनिया तक पहुंच चुके हैं. इनके नाम का आज भी लोगों के बीच खौफ है. कहा तो ये भी जाता है कि राजनीति सिर्फ इनका एक चेहरा है. ये अब भी दूसरी तरफ से अपनी जरायम की दुनिया को चलाते रहते हैं और प्रदेश में दहशत फैलाए रहते हैं. आइए जानते हैं ऐसे ही 5 डॉन को…

बृजेश सिंह
बृजेश सिंह का पूरा नाम अरुण कुमार सिंह है. उसके पिता रविंद्र सिंह वाराणसी में रसूखदार लोगों में एक थे. 27 अगस्त 1984 को वाराणसी के धरहरा में पिता की हत्या के बाद बृजेश ने बदला लेने के लिए जरायम की दुनिया में एंट्री ली. बताया जाता है कि 27 मई 1985 को पिता के हत्यारे हरिहर सिंह को देख बृजेश सिंह ने उसे मौत के घाट उतार दिया. इसके बाद से उसने जो अपराध की दुनिया में खौफ कायम किया, वह आज तक बना हुआ है. उसके ऊपर कई हत्या, हत्या के प्रयास, रंगदारी जैसे मामले दर्ज हैं. साल 2008 में उड़ीसा से गिरफ्तार किया गया. इसके बाद वह उसने राजनीति में एंट्री ली. आज वह एमएलसी है.

 

बृजेश सिंह

बृजेश सिंह

मुख्तार अंसारी
मुख्तार पूर्वांचल के बाहुबली नेता के तौर पर जाने जाते हैं. वह मऊ विधानसाभ से लगातार चार बार से विधानसभा में एक सदस्य के रूप में निर्वाचित हो रहे हैं. उनपर बीजेपी नेता कृष्णानंद राय की हत्या का आरोप है. साल 1988 में उनके ऊपर पहली बार हत्या का आरोप लगा था. बृजेश सिंह से उनकी बड़ी अदावत थी, जिसे लेकर पूर्वांचल में कई बार गोलियों की तड़तड़ाहत सुनने को मिली. मुख्तार आज भी जेल में बंद है और वह लगातार आरोप लगा रहा है कि उसके हत्या की साजिश रची जा रही है.

मुख्तार अंसारी

मुख्तार अंसारी

मुन्ना बजरंगी की हत्या से सहमा माफिया डॉन मुख्तार अंसारी, बांदा जेल की बैरक से दो दिन हो गए नहीं निकला बाहर 

अतीक अहमद
इलाहाबाद के रहने वाले अतीक अहमद को बाहुबली नेता के तौर पर जाना जाता है. वह फूलुप से सांसद भी रह चुके हैं. साल 2014 में उनके हलफनामे के मुताबिक, अतिक के खिलाफ 42 मामले लंबित है. इसमें हत्या की कोशिश, 6 अपहरण और 4 हत्या का आरोप है. इसमें सबसे चर्चित मामला बसपा विधायक राजूपाल की हत्या का है.

अतीक अहमद

अतीक अहमद

धनंजय सिंह
मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद उनकी पत्नी ने धनंजय सिंह पर हत्या कराने का आरोप लगाया है. धनंजय जौनपुर से सांसद रह चुके हैं. वह रारी विधानसभा सीट से विधायक भी रह चुके हैं. साल 1990 में जब धनंजय 10वीं में थे तो उनके ऊपर एक टीचर की हत्या का आरोप लगा था. बाद में सरकारी टेंडरों के कई आपराधिक मामलों में धनंजय का नाम शामिल हुआ. उसके ऊपर लखनऊ के हजरतगंज थाने में आधा दर्जन से ज्यादा मामले दर्ज हैं. धनंजय ने तीन शादी की है.

धनंजय सिंह

धनंजय सिंह

सुंदर भाटी
मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद सुंदर भाटी गैंग का जिक्र भी सबके सामने है. आरोप है कि मुन्ना के साले की भी हत्या इसी गैंग ने की थी. इस गैंग ने दिल्ली, यूपी और हरियाणा में कई वारदातों को अंजाम दिया. वह नोएडा के घंघोला इलाके का रहने वाला है. उसपर नरेश भाटी की हत्या का आरोप है. आरोप लगता है कि वह जेल से ही अपने गैंग को चलाता है. उसपर जय भगवान की भी हत्या का आरोप है.

सुंदर भाटी

सुंदर भाटी