नई दिल्ली: विपक्ष के शीर्ष नेताओं ने बुधवार को यहां एक बैठक की जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल को पहली बार एक साथ देखा गया. इस बैठक में नेताओं ने लोकसभा चुनाव में भाजपा नीत राजग के खिलाफ लड़ने के लिए एक साझा न्यूनतम कार्यक्रम के साथ काम करने का निर्णय किया. Also Read - सीएम केजरीवाल की 'रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ' अनूठी मुहिम शुरू, राघव चड्डा लोगों के बीच पहुंचे

Also Read - Sports University in Delhi: दिल्ली में होगी वर्ल्ड क्लास स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी, सिसोदिया ने कहा- खेल की दुनिया में देश का नाम करेगी रौशन

सोनिया गांधी के बगल में खड़े मुलायम ने कहा- नरेंद्र मोदी फिर बनें पीएम, यही मेरी इच्छा Also Read - गुरुग्राम में प्रदूषण के नियमों का उल्लंघन करने पर 29 लोगों पर कार्रवाई, एक दिन 7.25 लाख रुपये जुर्माना लगा

गांधी ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि विपक्षी नेताओं ने एक साझा न्यूनतम कार्यक्रम बनाए जाने पर सहमति जतायी. बैठक की मेजबानी राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने अपने आवास पर की थी. गांधी ने कहा, ‘‘हम भाजपा को हराने के लिए साथ मिलकर काम करेंगे.’’ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वार्ता को सकारात्मक बताया और कहा कि विपक्ष साथ मिलकर काम करेगा.

आरटीआई: नोटबंदी के दौरान मौतों की जानकारी मांगने पर PMO का जवाब- हमारे पास कोई सूचना नहीं

यह बैठक इसका संकेत देती है कि कांग्रेस और आप गठबंधन कर सकती हैं. आप के 2015 में दिल्ली में सत्ता में आने के बाद से दोनों ही दल एक-दूसरे के कट्टर प्रतिद्वंद्वी रहे हैं. तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बैठक को ‘‘फलदायी’’ करार दिया और कहा कि ‘‘हम चुनाव पूर्व गठबंधन करेंगे.’’ तेदेपा प्रमुख एवं आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि भारत को बचाने की एक लोकतांत्रिक मजबूरी है जबकि नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारुक अब्दुल्ला ने बैठक को ‘‘अच्छा’’ करार दिया.