तिरुवनंतपुरम: केरल (Kerala) में जीका वायरस (Zika virus) संक्रमण का एक और मामला सामने आया है. इस तरह राज्य में जीका विषाणु संक्रमण के 15 मामले सामने आ चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने कहा कि नंथनकोड निवासी 40 वर्षीय एक व्यक्ति के नमूने में जीका संक्रमण की पुष्टि हुई है. तिरुवनंतपुरम (Thiruvananthapuram) में अब तक इस विषाणु संक्रमण के 14 मामले सामने आ चुके हैं.Also Read - केरल में बढ़ रहा जीका वायरस, दो और लोगों में संक्रमण की पुष्टि, अब तक 37 मामले आए

मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने कहा था कि केरल में जीका संक्रमण के मामले सामने आए हैं और यह अप्रत्याशित नहीं है, क्योंकि यह विषाणु डेंगू और चिकुगुनिया फैलाने वाले एडीस मच्छर से फैलता है. उन्होंने कहा कि इस तरह की बीमारियों को रोकने के लिए जिला और राज्य स्तर की इकाइयों को और मजबूत किया जाएगा. Also Read - Zika Virus: केरल में जीका वायरस के पांच और मामले मिले, 35 पर पहुंची संख्या

Also Read - PM मोदी ने तीसरी लहर के मद्देनजर कोरोना की ताजा स्थिति पर 6 राज्‍यों से मुख्‍यमंत्र‍ियों से किया संवाद

केरल में बीती 8 जुलाई को मच्छरों के काटने से होने वाली इस बीमारी का पहला मामला 24 साल की गर्भवती महिला में सामने आया था. राज्य सरकार के मुताबिक, राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) ने शुक्रवार को 13 और ऐसे मामलों की पुष्टि की थी. जीका के लक्षण डेंगू की तरह हैं, जिनमें बुखार, त्वचा पर चकत्ते और जोड़ों में दर्द होना शामिल है. केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने कहा कि जीका वायरस के प्रकोप की रोकथाम के लिए कार्ययोजना तैयार कर ली गई है.