नई दिल्ली: भारत और म्यानमार ने शुक्रवार को द्विपक्षीय व्यापार संबंधों और सीमा सहयोग समेत द्विपक्षीय संबंधों के पूरे दायरे की समीक्षा की. भारत और म्यामां के बीच यहां 18वां विदेश मंत्रालय स्तरीय वार्ता हुई जिसमें भारतीय प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई विदेश सचिव विजय गोखले और म्यानमार के प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई स्थायी सचिव यू शू हान ने की.

विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों के पूरे दायरे, म्यानमार में भारत की वर्तमान परियोजनाओं, क्षमता निर्माण पहल, द्विपक्षीय व्यापार संबंध, सीमा सहयोग और द्विपक्षीय संधियों के क्रियान्वयन में तेजी लाने की योजना की समीक्षा की.

अमेरिका के नौसेना अड्डे पर हमला : तीन लोगों की मौत, हमलावर भी ढेर

इसी बीच राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि रक्षा क्षेत्र में भारत का विकास एवं उसकी क्षमता स्वीडन की कंपनियों के लिए इस बात के बड़े अवसर मुहैया कराती है कि वे घरेलू बाजार और निर्यात के लिए भारत में निर्माण करें. कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में स्वीडन के राजा कार्ल सोलहवें गुस्ताफ और रानी सिल्विया के सम्मान में आयोजित भोज के दौरान अपने भाषण में कहा कि उन्हें यह देखकर खुशी होती है कि भारत और स्वीडन के द्विपक्षीय व्यापार एवं निवेश संबंध मजबूत हो रहे हैं.

सूडान LPG टैंकर बलास्ट: भारतीय दूतावास ने कहा- हादसे में तमिलनाडु, यूपी और बिहार के हैं अधिकतर पीड़ित

आधिकारिक बयान के अनुसार राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘रक्षा क्षेत्र में भारत का विकास एवं क्षमताएं स्वीडन की कंपनियों के लिए इस बात के बड़े अवसर मुहैया कराती हैं कि वे घरेलू बाजार और निर्यात के लिए भारत में निर्माण करें.’’ उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र निकट सहयोग का एक अन्य क्षेत्र है.