नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि वर्तमान में जारी वैश्विक व्यापार युद्ध ‘आरंभ में अस्थिरता’ जरूर पैदा कर सकता है, लेकिन यह भारत के लिए कई अवसरों के द्वार खोलेगा. इससे देश को एक बड़ा विनिर्माण और व्यापारिक केंद्र बनाने में मदद मिल सकती है. Also Read - कोरोना से जंग में चुनौती बनी स्पिट अटैक, दिल्ली के बाद इन शहरों में भी घटी घटना

जेटली ने व्यापारियों से आग्रह किया कि उन्हें साफ-सुथरी और नैतिक व्यापारिक गतिविधियों को अपनाना चाहिए. उन्हें अपने हिस्से का कर चुकाना चाहिए क्योंकि शोधन अक्षमता एवं संहिता (आईबीसी) ने रातों-रात छूमंतर हो जाने वाले व्यापारियों की दुकान पर ताला लगा दिया है. पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स के वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए जेटली ने कहा कि कुछ वैश्विक घटनाएं भारत पर ‘विपरीत प्रभाव’ डालती हैं, लेकिन यही देश के सामने तेजी से आगे बढ़ने के कई रास्ते भी खोलेगी. Also Read - Corona Virus: दिल्ली में कोरोना वायरस के पांचवें मामले की हुई पुष्टि, इटली से लौटा था व्यक्ति

‘जवाबी’ आयात शुल्क अमेरिका-चीन के व्यापार को तबाह करेगा: चीन Also Read - दिल्ली हिंसा के लिए कांग्रेस और आम आदमी पार्टी जिम्मेदारः प्रकाश जावड़ेकर

व्यापार युद्ध ने शुरुआत में अस्थिरता पैदा की
वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से अपने संबोधन में जेटली ने कहा कि व्यापार युद्ध ने शुरुआत में अस्थिरता पैदा की, लेकिन उन्होंने कई नए बाजारों को खोला. यह भारत के सामने एक बड़ा व्यापारिक और विनिर्माण केंद्र बनने का रास्ता खोलेगा. इसलिए हमें स्थिति को बहुत नजदीक से देखना होता है. पता नहीं कि चुनौती कब मौका बन जाए. विशेषज्ञों का कहना है कि अमेरिका और चीन के बीच चल रहे मौजूदा व्यापार युद्ध से भारत में बनने वाली मशीनों, इलेक्ट्रिक उपकरणों, वाहनों एवं कलपुर्जों, रसायन, प्लास्टिक एवं रबर उत्पादों को अमेरिकी बाजार में नयी पहचान मिल सकती है.

ईरान पर अमेरिका के प्रतिबंधों का प्रतिरोध कर सकता है भारत: रिपोर्ट

कच्चे तेल की बढ़ती कीमते अर्थव्यवस्था के सामने बड़ी चुनौती
जेटली ने कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों को भी अर्थव्यवस्था के सामने एक बड़ी चुनौती बताया, क्योंकि कच्चे तेल के लिए भारत लगभग पूरी तरह आयात पर निर्भर है और अपनी जरूरत का 81% आयात करता है. भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल आयातक है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमतें बढ़ने से घरेलू स्तर पर ईंधन भी महंगा हुआ है. उल्लेखनीय है कि पिछले पांच सप्ताह में मानक ब्रेंट कच्चे तेल का दाम 71 डॉलर से बढ़कर 80 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया है. वित्त मंत्री ने कहा कि इन चुनौतियों के बने रहने के बावजूद, मुझे दृढ़ विश्वास है कि आने वाले दिन और साल वृद्धि के लिहाज से भारत के लिए बेहतर अवसर लाएंगे.  (इनपुट एजेंसी)