कोटा: कोटा जंक्शन और कुरलासी स्टेशन के बीच रविवार को परीक्षण के दौरान 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली पहली स्वदेशी डिजाइन ट्रेन 18 नई दिल्ली और वाराणसी के बीच 25 दिसंबर को लॉन्च हो सकती है. हालांकि, अधिकारी ने कहा कि इसकी लॉन्च की तारीख और किराए पर निर्णय अभी तक लिया जाना बाकी है, क्योंकि परीक्षण अभी तक पूरा नहीं हुआ है. ट्रेनसेट को इंजन की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह मेट्रो ट्रेनों जैसे इलेक्ट्रिक कर्षण पर स्वचालित है.Also Read - Indian Railways/IRCTC: कोरोना के नए वैरिएंट Omicron को लेकर रेलवे ने भी बढ़ाई सख्ती, नई गाइडलाइन जारी, जान लें..

Also Read - Indian Railways/IRCTC Update: तत्काल टिकट चार्ज और Dynamic Fare में जल्द हो सकती है कटौती, जानें क्या है अपडेट

बिना इंजन वाली ट्रेन18 ट्रायल के दौरान 180 किमी/ घंटे की स्‍पीड से भी तेज दौड़ी Also Read - Indian Railway Group D Exam: रेलवे ग्रुप- D भर्ती परीक्षा के मद्देनजर आई नई जानकारी, लिंक कुछ ही देर में होगा एक्टिव

प्रयोगात्मक योजना के मुताबिक, ट्रेन नई दिल्ली स्टेशन से सुबह 6:00 बजे शुरू होगी और इसके दोपहर 2:00 बजे तक वाराणसी पहुंचने की उम्मीद है. वापसी यात्रा के लिए ट्रेन वाराणसी से 2.30 बजे प्रस्थान करेगी और रात 10.30 बजे राष्ट्रीय राजधानी पहुंच जाएगी.

PHOTOS: देश की पहली इंजन-रहित ट्रेन18 चलेगी 29 अक्‍टूबर से, स्‍पीड 160 किमी प्रति घंटे

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “क्रिसमस के दिन दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन भी होता है और अगर उस दिन हम ट्रेन को लॉन्च करने में सफल रहते हैं तो यह देश के महान राजनेता को श्रद्धांजलि होगी.” चूंकि 100 करोड़ रुपए, की ट्रेन की निवेश लागत अधिक है, इसलिए किराया भी सामान्य से ज्यादा होगा.

लग्जरी सुविधाओं से लैस है ये सेमी-हाई स्पीड ट्रेन, शताब्दी को करेगी रिप्लेस

ट्रेन ने परीक्षण को दौरान रविवार को जब 180 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति को पार किया तो ट्रेन में लड्डू बांटे गए और सबसे पहले लड्डू लोको पायलट पद्म सिंह गुर्जर और उनके सहयोगी ओंकार यादव को दिया गया.

पहली बार बिना इंजन वाली ‘ट्रेन 18’ का होने जा रहा ट्रायल, एक से बढ़कर एक खासियतें

पद्म सिंह ने आईएएनएस को बताया, “हम इस महान अवसर का हिस्सा बनने पर रोमांचित हैं.” यादव ने कहा, “मुझे इस ऐतिहासिक परीक्षण का हिस्सा बनने पर गर्व है.”

ट्रेन की दिशा से मेल खाने के लिए घुमावदार सीटों पर बैठे लोगों के लिए यह एक सहज यात्रा थी. ट्रेन की परीक्षण यात्रा कोटा से सुबह 9.30 बजे शुरू हुई और कई नदियों, पुलों और मोड़ों को पार करने के बाद शाम छह बजे जंक्शन पर लौट आई.

पटरी पर उतरी देश की पहली इंजन रहित ट्रेन, परीक्षणों के बाद शताब्दी एक्सप्रेस की जगह लेगी ‘ट्रेन 18’

अब ट्रेनसेट को लंबे समय तक इसकी यात्रा करने की क्षमता की पुष्टि करने वाली जांच से गुजरना है और वाणिज्यिक संचालन के लिए आयुक्त, रेलवे सुरक्षा (सीआरएस) से मंजूरी मिलने से पहले इसकी आपातकालीन ब्रेकिंग दूरी का परीक्षण भी होना है. अधिकारी ने कहा, “हम एक सप्ताह में परीक्षण खत्म होने की उम्मीद कर रहे हैं और इसके बाद हम सीआरएस मंजूरी ले लेंगे.”

हालांकि रविवार के परीक्षण के दौरान ट्रोन 18 ने 180 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से परीक्षण पूरा किया, लेकिन वाणिज्यिक परिचालन में इसे सिर्फ 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाने की अनुमति दी जाएगी.

विश्वस्तरीय सुविधाओं वाली ट्रेन में यात्रियों को वाईफाई, टच फ्री बायो-वैक्युम शौचालय, एलईडी लाइटिंग, मोबाईल चार्ज करने की सुविधा मिलेगी और मौसम के अनुसार उचित तापमान समायोजित करने के लिए इसमें क्लाइमेट कंट्रोल सिस्टम भी है. 16 कोच वाली ट्रेन में 52 सीटों के साथ दो एक्जियूटिव डिब्बे होंगे और ट्रेलर कोच में 78 सीटें होंगी.