तिरूचिरापल्ली: ऐसे समय में जब भारतीय रेलवे मानवरहित क्रॉसिंग को समाप्त करने के लिए अभियान चला रही है, उस समय तमिलनाडु में सप्ताह में दो दिन चलने वाली एक ट्रेन ऐसी 35 जगहों पर रूकती है जिसमें सवार दो कर्मचारी उतरकर फाटक खोलते और बंद करते हैं. Also Read - बिना किसी दिक्कत के बाजारों तक पहुंच सके जरूरी सामान, रेलवे ने शुरू की पार्सल वैन सेवा

भारत से श्रीलंका तक रामायण सर्किट के दर्शन कराएगी IRCTC, 14 नवंबर को दिल्ली से चलेगी रामायण एक्सप्रेस Also Read - Sarkari Naukri 2020: South Eastern Railway Recruitment 2020: भारतीय रेलवे में ALP, JE और Clerk के पदों पर निकली वैकेंसी, इन खास बातों को ध्यान में रखकर करें अप्लाई

इन मानवरहित क्रासिंग पर रूकने के अलावा हाल में शुरू की गयी यह ट्रेन अपने करीब साढ़े तीन घंटे के सफर में सात स्टेशनों पर रुकती है. यह करैकुडी और पत्तुकोट्टई के बीच 72 किलोमीटर के खंड पर चलती है. पटरियों को ब्रॉड गेज में परिवर्तित करने के तीन महीने बाद ट्रेन का परिचालन 30 जून को शुरू हुआ था. यह सिर्फ सोमवार और गुरूवार को चलती है. ट्रेन में दो ‘गेटमैन’ सवार रहते हैं. एक अगले डिब्बे में और दूसरा पिछले डिब्बे में. Also Read - तमिलनाडु में कोरोना वायरस से 54 वर्षीय शख्स की मौत, राज्य में संक्रमितों की संख्या 18 हुई

मुन्ना बजरंगी की हत्या से सहमा माफिया डॉन मुख्तार अंसारी, बांदा जेल की बैरक से दो दिन हो गए नहीं निकला बाहर

तीन महीने के लिए प्रायोगिक शुरूआत
जब ट्रेन मानवरहित रेलवे फाटक पर रुकती है तो अगले डिब्बे में सवार कर्मी नीचे उतरता है और गेट को बंद कर देता है. जब ट्रेन चलती है और फाटक से कुछ आगे रूकती है तो दूसरा गेटमैन नीचे उतरकर फाटक खोलता है और ट्रेन में चढ़ जाता है. फिर ट्रेन गंतव्य के लिए रवाना हो जाती है. तिरुचिराप्पल्ली संभागीय रेलवे के प्रबंधक उदय कुमार रेड्डी ने बताया कि इस पहल की शुरूआत प्रायोगिक तौर पर तीन महीने के लिए की गयी है.