नई दिल्ली: दूरसंचार नियामक ट्राई (Telecom regulator TRAI) ने मंगलवार को दूरसंचार परिचालकों (telecom companies) को सभी मोबाइल ग्राहकों के लिए नंबर समान रखते हुए कंपनी बदलने (portability) को लेकर sms सुविधा तत्काल प्रभाव से लागू करने को कहा है. यह सुविधा सभी मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं (all mobile phone users) के लिए देने को कहा गया है, भले ही उन्होंने कितनी भी राशि का रिचार्ज क्यों नहीं कराया हो.Also Read - Reliance Jio कर रहा है 6G की तैयारी, 5G की तुलना में 100 गुना अधिक होगी स्पीड, जानिए डिटेल

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) का नेटवर्क पोर्टेबिलिटी को लेकर यह कड़ा संदेश महत्वपूर्ण है. रिलायंस जियो ने हाल ही में नियामक को पत्र लिखकर शिकायत की थी कि वोडाफोन आइडिया का नया शुल्क ढांचा कथित रूप से कम राशि के रिचार्ज कराने वाले ग्राहकों को अपने नेटवर्क से मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सुविधा प्रतिबंधित कर रहा है. Also Read - Reliance Jio ने समय से पहले किया स्पेक्ट्रम का भुगतान, चुकाए 30,791 करोड़ रुपये

ट्राई ने कुछ ‘प्रीपेड वाउचर’ में ‘आउटगोइंग एसएमएस’ सुविधा प्रदान नहीं करने वाली दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनियों के रुख पर पर कड़ा ऐतराज जताया. ट्राई के अनुसार, हाल के दिनों में ग्राहकों से शिकायतें मिली हैं कि वे अपने प्रीपेड खातों में पर्याप्त राशि होने के बावजूद ‘मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी’ सुविधा का लाभ उठाने के लिए यूपीसी (यूनिक पोर्टिंग कोड) सृजित करने के लिए निर्धारित नंबर 1900 पर एसएमएस भेजने में असमर्थ हैं. Also Read - Vodafone Idea के इस प्लान के सामने फेल हुए Jio और Airtel, डेली मिल रहा है 1.5GB डाटा और बहुत कुछ

नियामक ने अपने निर्देश में कहा, ”….अत: सभी सेवाप्रदाताओं को निर्देश दिया जाता है कि वे दूरसंचार मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नियमन, 2009 के तहत प्रीपेड और पोस्टपेड दोनों श्रेणी के मोबाइल फोन ग्राहकों को मोबाइल फोन पोर्टेबिलिटी की सुविधा के लिए 1900 पर यूपीसी को लेकर एसएमएसए भेजने की सुविधा दें. यह सुविधा सभी ग्राहकों को मिलनी चाहिए, भले ही वे कितने भी मूल्य का वाउचर क्यों नहीं इस्तेमाल कर रहे हों.”

ट्राई ने कहा कि कुछ प्रीपेड वाउचर/प्लान में मोबाइल नंबर पार्टेबिलिटी से संबंधित एसएमएस भेजने की सुविधा का प्रावधान न करने की गतिविधियां नियमन के प्रावधानों का उल्लंघन हैं.

सूत्रों के मुताबिक, रिलायंस जियो ने ट्राई से शिकायत की थी कि वोडाफोन आइडिया का नया शुल्क ढांचा कम मूल्य की योजनाओं को चुनने वाले ग्राहकों को अपना मोबाइल नंबर ‘पोर्ट’ करने से रोकता है, क्योंकि कंपनी की शुरुआती स्तर की योजनाओं में ‘आउटगोइंग एसएमएस’ सुविधा उपलब्ध नहीं है.

बता दें कि वोडाफोन आइडिया ने नवंबर में मोबाइल सेवाओं और इंटरनेट दरों में 18-25 प्रतिशत की बढ़ोतरी की थी. नए शुल्क ढांचे के तहत, कंपनी ने 28 दिनों की वैधता के साथ शुरुआती स्तर के ‘प्लान’ को 75 रुपए से बढ़ाकर 99 रुपए कर दिया, लेकिन इसमें एसएमएस सेवा जुड़ी नहीं है. जियो की शिकायत के अनुसार, वोडाफोन आइडिया 179 और उससे ऊपर की योजनाओं में एसएमएस सेवा दे रही है.