नई दिल्ली: दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने इस महीने में चलाए जांच अभियान में प्रदूषण फैलाने वाले दस हजार से अधिक वाहनों के मालिकों के खिलाफ कार्रवाई की है. परिवहन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि छह अक्टूबर से प्रारंभ हुए इस अभियान में प्रदूषण फैलाने वाले 10,787 वाहन मालिकों पर कार्रवाई की गई.

लग गया जुर्माना
पकड़े गए वाहनों में से 6,355 साफ तौर पर वायु प्रदूषण फैला रहे थे जबकि 4,432 वाहन प्रदूषण नियंत्रण जांच जांच प्रमाणपत्र प्रस्तुत नहीं कर सके. इन लोगों से एक हजार रूपए से लेकर दो हजार रूपए तक का जुर्माना वसूल किया गया. वायु की गुणवत्ता इस मौसम में पहली बार ‘बहुत खराब’ श्रेणी की हो गई है और राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों में प्रदूषण का स्तर गंभीर हो गया है. वायु की गुणवत्ता खराब होने के लिए वाहनों के प्रदूषण, निर्माण गतिविधियों और मौसम संबंधी कारकों समेत कई कारकों को जिम्मेदार ठहराते हुए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने आने वाले दिनों में दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता के और खराब होने का पूर्वानुमान व्यक्त किए थे.

देश की राजधानी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता अब भी खराब, बिगड़ सकते हैं और हालात

परिवहन विभाग ने हाल ही में अपनी प्रवर्तन शाखा को नए वाहन और टैब देकर और सशक्त बनाया है. दीपावली पर्व के नजदीक आने के साथ प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए परिवहन विभाग अपनी कार्रवाई जारी रखेगा. वहीँ कोर्ट ने भी दीवाली के मद्देनजर पटाखे छुड़ाने की अवधि निर्धारित कर दी है. प्रदूषण की रोकथाम के लिए एनसीआर में कई निर्माण कार्यों पर भी रोक लगा दी गई है. दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने पर्यावरण प्रदूषण की रोकथाम के मद्देनजर सम्बंधित विभागों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं.