Travel Guidelines: कोरना वायरस के कहर से (Covid-19) देश में अब तक 94 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं और 1 लाख 37 हजार से ज्यादा की जान जा चुकी है. कई राज्यों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. कोरोना काल में सफर के लिए अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग दिशा निर्देश हैं. खासतौर पर विदेश से भारत आने वाले यात्रियों के लिए होम और इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन 7 से लेकर 14 दिनों तक का है. घरेलू यात्रियों के लिए भी अलग-अलग दिशा निर्देश हैं. इसके साथ-साथ यात्रियों को Aarogya Setu App भी जरूरी होगा. Also Read - नए साल में पहली बार असम पहुंचे पीएम मोदी, भूमिहीन मूल निवासियों के लिए जमीन के पट्टों का किया वितरण

किस राज्य में कौन सा नियम Also Read - बाइडेन सरकार का बड़ा फैसला, यूएस आने वाले हर नागरिक को कराना होगा कोविड की जांच और पृथक वास में रहना होगा जरूरी

आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh Travel Guidelines)
घरेलू और अंतरराष्ट्रीय यात्रियों का थर्मल स्क्रीनिंग किया जाएगा. सभी यात्रियों को यात्रा से 72 घंटे पहले spandana.ap.gov.in पर यात्रा की जानकारी देनी होगी. इसमें आपको यह भी जानकारी देनी होगी कि अगर जरूरत पड़े तो अपने खर्च पर 14 दिन के लिए आपको क्वारेंटाइन में रहना होगा. Also Read - कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गईं शशिकला, विक्टोरिया हॉस्पिटल की गईं रिफर

असम (Assam Pradesh Travel Guidelines)
राज्य के हर एयरपोर्ट पर कोविड का रैपिड एंटिजन टेस्ट किया जाएगा. अगर जांच रिपोर्ट निगेटिव आई तो RTPCR टेस्ट के लिए आपका सैंपल लिया जाएगा. अगर आपका रिजल्ट पॉजिटिव आता है तो आपको कोविड फैसलिटी सेंटर में रखा जाएगा.

बिहार (Bihar Pradesh Travel Guidelines)
गया एयरपोर्ट पर पहुंचने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को जिनमें कोरोना के लक्षण न हो उन्हें 7 दिन के लिए सरकार की तरफ से इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन में रखा जाएगा. इसके बाद 7 दिन उसे होम क्वारेंटाइन में भी रहना होगा. घरेलू यात्रियों को क्वारेंटाइन में नहीं रहना होगा. इसके साथ-साथ आरोग्य सेतु ऐप्प पर अपने स्वास्थ्य की जानकारी देनी होगी.

चंडीगढ़ (Chandigarh Travel Guidelines)
घरेलू यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग की जाएगी लेकिन क्वारेंटाइन में नहीं रखा जाएगा. इसके साथ-साथ पैसेंजर को एक फॉर्म में यह भी जानकारी देनी होगी कि बीते 15 दिन में उसने विदेश की यात्रा नहीं की हो. वहीं, विदेशी यात्रियों को 7 दिन के लिए पेड इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन और 7 दिन होम आइसोलेशन में रहना होगा.

दिल्ली (Delhi Travel Guidelines)
घरेलू यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग की जाएगी लेकिन क्वारेंटाइन में नहीं रखा जाएगा. विदेशी यात्रियों को इंस्टीट्यूशनल क्वारंटाइन से बचने के लिए यात्रा से 72 घंटे पहले किया गया RT-PCR टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट देनी होगी. विदेशी यात्रियों को जरूरत होने पर एयरपोर्ट पर ही RT-PCR test किया जाएगा.

गोवा (Goa Travel Guidelines)
गोवा जाने वाले घरेलू यात्रियों को न तो कोविड टेस्ट रिपोर्ट की जरूरत होगी और न ही क्वारेंटाइन की. विदेशी यात्रियों का रैपिड टेस्ट किया जाएगा और पॉजिटिव पाने जाने पर उन्हें कोविड केयर सेंटर में रखा जाएगा. रिपोर्ट निगेटिव आने पर 14 दिन के लिए क्वारेंटाइन की प्रक्रिया पूरी करनी होगी.

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh Travel Guidelines)
घरेलू यात्रियों को क्वारेंटाइन में नहीं रखा जाएगा, लेकिन थर्मल स्क्रीनिंग होगी. आरोग्य सेतु ऐप्प अनिवार्य होगा.

महाराष्ट्र (Maharashtra Travel Guidelines)
दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और गोवा से महाराष्ट्र के किसी भी एयरपोर्ट पर आने वाले सभी यात्रियों को कोरोना का RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव लेकर आना होगा. अगर आपके पास टेस्ट रिपोर्ट नहीं है तो एयरपोर्ट पर आपके खर्चे पर टेस्ट करवाया जाएगा. मुंबई और पुणे एयरपोर्ट पर आने वाले यात्रियों को 14 दिन के होम क्वारेंटाइन में रहना होगा.