लखनऊ: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की 14 वर्षीय बेटी टीना यादव (Tina Yadav) को यहां एक सीएए (Citizenship Amendment Act) विरोधी रैली में भाग लेते देखा गया. टीना रविवार को घंटा घर पहुंचीं, जहां सैकड़ों महिलाएं नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) के विरोध में बैठी थीं और उन्होंने महिलाओं से बात की. उनके साथ उनके दोस्त भी थे. चूंकि वह अभी भी उतनी प्रसिद्ध हस्ती नहीं हैं, इसलिए किसी ने उनकी मौजूदगी पर ध्यान नहीं दिया. मंगलवार को जब उनकी फोटो वायरल हुई तो यह मामला सामने आया.

सूत्रों ने कहा कि चूंकि टीना के कुछ दोस्त विरोध प्रदर्शन का हिस्सा थे, इसलिए वह उनसे मिलने गई थीं और कुछ समय उनके साथ बैठी भी थीं. यह पहली बार है कि पूर्व मुख्यमंत्री की बेटी ने किसी राजनीतिक कार्यक्रम में भाग लिया है और वह भी अपनी मर्जी से.

बता दें कि संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) के विरोध में लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी है. कड़ाके की ठंड के बावजूद यहां सैकड़ों महिलायें प्रदर्शन कर रही हैं. वहीं, उत्तर प्रदेश पुलिस ने इन प्रदर्शनों में शामिल मशहूर शायर मुनव्वर राना (Munawwar Rana) की दो बेटियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. यूपी पुलिस ने इन दोनों के साथ 16 अन्य महिलाओं के खिलाफ मुकदमा किया है. पुलिस का कहना है कि इन महिलाओं ने पुलिस के साथ बदसुलूकी की है.

मुनव्वर राणा की बेटियां सुमैया राना (Sumaiyya Rana) और फौजिया राना (Faujia Rana) लखनऊ में नागरिकता कानून के विरोध में चल रहे प्रदर्शन में शामिल हैं. दोनों ही प्रदर्शनों का नेतृत्व कर रही हैं. हिन्दुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार, पुलिस ने इस बीच इनके खिलाफ ये कार्रवाई की है. बता दें कि खुले आसमान के नीचे पिछले शुक्रवार से बड़ी संख्या में महिलाएं दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर पुराने लखनऊ स्थित घंटाघर के सामने प्रदर्शन कर रही हैं. उनके साथ बच्चे भी हैं.