केवडिया (गुजरात): गुजरात के एक आदिवासी नेता ने मंगलवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से पर्यावरण के ‘‘विनाश’’ को रोकने और विकास के नाम पर नर्मदा जिले में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास आदिवासियों से ‘‘जबरन जगह खाली कराने’’ को रोकने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की. गुजरात के आदिवासी नेता प्रफुल्ल वसावा ने ट्रम्प से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास रहने वाले आंदोलनकारी आदिवासियों और भाजपा के नेतृत्व वाली गुजरात और केंद्र सरकारों के बीच ‘‘मध्यस्थता’’ करने का आग्रह किया है. उन्होंने इस संबंध में ट्रंप को एक पत्र लिखा है. वसावा ने एक ट्वीट के साथ इस पत्र को पोस्ट किया है और इसमें ट्रंप को टैग किया. Also Read - High Court ने गुजरात सरकार को जमकर फटकारा-'हमारी सुनी होती तो नहीं आती कोरोना सुनामी'

बता दें कि गुजरात के अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) ने नवनिर्मित मोटेरा स्टेडियम के समीप झुग्गियों में रह रहे कम से कम 45 परिवारों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की 24 फरवरी को निर्धारित यात्रा से पहले उस जगह को खाली करने का नोटिस दिया है. हालांकि अधिकारियों ने इस प्रस्तावित हाईप्रोफाइल यात्रा और नोटिस जारी किये जाने के बीच किसी तरह के संबंध से इनकार किया है लेकिन झुग्गीवासियों ने इस कदम के समय को लेकर सवाल उठाया है. Also Read - Gujarat Board GSEB 10th, 12th Exam 2021: गुजरात बोर्ड 10वीं, 12वीं की परीक्षा स्थगित, बिना एग्जाम इन क्लास के छात्रों को किया जाएगा प्रमोट

यह कदम ऐसे समय उठाया गया है, जब महज कुछ दिन पहले एएमसी ने उस मार्ग पर पड़ने वाली झुग्गियों को कथित रूप से ढ़कने के लिए एक दीवार खड़ी करनी शुरू की जिस मार्ग से अमेरिकी राष्ट्रपति के गुजरने की संभावना है. नोटिस में कहा गया है, ‘‘आपने एएमसी की जमीन का अतिक्रमण किया है. अगले सात दिनों में अपने सारे सामानों के साथ यह जगह खाली करिए वरना खाली कराने के लिए विभागीय कार्रवाई की जाएगी. यदि आपको कोई आवेदन देना है तो आप 19 फरवरी की अपराह्र तीन बजे तक दें.’’ Also Read - गुजरात में मास्क नहीं पहनने पर 90 करोड़ रुपये का जुर्माना, सुप्रीम कोर्ट भी हैरान, कहा-ये तो हद है...

इनपुट-भाषा