कालिकापुर (त्रिपुरा): एक लड़की से कथित तौर पर छेड़छाड़ के बाद आगजनी और लूटपाट की घटनाओं के बाद अपने घरों को छोड़कर भागे वेस्ट त्रिपुरा जिले के 300 लोगों ने शनिवार को कहा कि वे वापस जाने को लेकर डरे हुए हैं. Also Read - पुलिसकर्मी की पिटाई का केस: कोर्ट ने महाराष्ट्र की मंत्री को सुनाई सख्‍त सजा, जुर्माना भी लगाया

Also Read - बिहार के मंत्री विनोद कुमार सिंह का कोविड-19 के बाद की समस्याओं के कारण निधन

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देव का जन्म बांग्लादेश में नहीं, भारत में हुआ था: सीएम ऑफिस Also Read - NDA सरकार में मंत्री रहे दिलीप रे कोयला घोटाले में दोषी करार, 14 को सजा सुनाई जाएगी

उन्होंने आरोप लगाया कि रानिरबाजार पुलिस थाना क्षेत्र के ललित बाजार मुहल्ले में उनके घरों में लूटपाट और तोड़फोड़ राजस्व मंत्री और प्रमुख जनजातीय नेता एन सी देबबर्मा के उकसाने पर शुरू हुई जो शुक्रवार को वहां गए थे. इंडीजिनियस पीपुल्स फ्रंट त्रिपुरा (आईपीएफटी) के अध्यक्ष देबबर्मा ने आरोपों पर टिप्पणी से इनकार कर दिया.

नौकरी पर बोले त्रिपुरा के सीएम बिप्लव देब- पान बेच लेते युवा तो अकाउंट में होता 5 लाख रुपये

उप जिलाधिकारी सुभाषीश बंद्योपाध्याय ने कहा कि शनिवार को सुबह बाठ बजे से अगले 48 घंटे के लिये इलाके में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई गई है. बंद्योपाध्याय ने बताया कि शुक्रवार को कम से कम चार घरों में आग लगा दी गई और कई अन्य में तोड़फोड़ और लूटपाट की गई. उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने नुकसान का रिकॉर्ड बनाना शुरू कर दिया है. (इनपुट एजेंसी)