अगरतला: त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देव ने राफेल सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है. बिप्लव ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दुनिया में भारत की साख खराब करने के लिए “साजिश रची” और फ्रांस के साथ राफेल लड़ाकू विमान सौदे का विरोध किया.

शुक्रवार को देव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने साबित कर दिया कि केंद्र में भाजपा नीत राजग सरकार जवाबदेह और कल्याणकारी सरकार है. उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दुनिया में भारत की प्रतिष्ठा गिराने के लिए षड्यंत्र किया. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व में 10 साल तक कांग्रेस की स्थिर सरकार थी. राफेल समझौते को अंतिम रूप देने में वे नाकाम क्यों रहे? वे हमारे सैनिकों का मनोबल घटाने का प्रयास क्यों कर रहे हैं? यह सब करने के लिए उन्हें किसने भड़काया है?’’

देव ने कहा कि ‘‘आधारहीन’’ सवाल उठाने के लिए राहुल गांधी को लोगों से माफी मांगनी चाहिए. प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद भाजपा के वरिष्ठ नेता और त्रिपुरा के कानून मंत्री रतन लाल नाथ ने कहा, ‘‘हमें लगता है कि यह विदेशी साजिश है. राफेल लड़ाकू विमानों की खरीदारी में देरी करने के लिए यह बड़ी साजिश है. इसने भारतीयों की सुरक्षा पर सवाल पैदा किया है.’’

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सरकार ने राफेल जेट के दाम संसद को नहीं बताए, लेकिन कैग को बताए

कथित साजिश में कौन सा देश शामिल है, यह पूछे जाने पर नाथ ने कहा, ‘‘मुझे नहीं पता कौन सा देश शामिल है, लेकिन विदेशी ताकतों की संलिप्तता है.’’

राफेल डील: मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा- अटॉर्नी जनरल और कैग को तलब करेगी पीएसी

मुख्यमंत्री के बयान पर पलटवार करते हुए त्रिपुरा प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कहा कि फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद की जांच के लिए अगर संयुक्त संसदीय कमेटी का गठन हो तो सारी अनियमितता सामने आ जाएगी. टीपीसीसी अध्यक्ष बिरजीत सिन्हा ने कहा, ‘‘हमने सुप्रीम कोर्ट में मामला दाखिल नहीं किया क्योंकि हमारे नेता राहुल गांधी ने सही मांग की है कि अगर जेपीसी गठित हो तो सारी अनियमितता सामने आ जाएगी. हमारा मानना है कि राहुल गांधी ने सही रुख अपनाया है.’’