ह्यूस्टनः अमेरिका के ह्यूस्टन में रविवार को आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत और भारतीय अमेरिकियों को केंद्र में रखकर करीब आधे घंटे तक भाषण देने की उम्मीद है. अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि विश्व की ऊर्जा राजधानी में आयोजित इस कार्यक्रम से दोनों लोकतंत्रों के दीर्घजीवी संबंधों को नई ऊर्जा मिलेगी. पहले रिपोर्ट थी कि ट्रंप भारतीय समुदाय के इस कार्यक्रम में केवल संक्षित भाषण या उपस्थिति दर्ज कराएंगे.

ह्यूस्टन: सिखों, बोहरा मुस्लिमों से मिले PM मोदी, कश्मीरी पंडितों से कहा- आपने बहुत कष्ट झेले

वर्ष 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के प्रत्याशी के तौर पर भारत का घनिष्ठ मित्र होने का वादा करने वाले ट्रंप केवल ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में शामिल होने के लिए ह्यूस्टन आ रहे हैं. व्हाइट हाउस की ओर से शनिवार देर शाम जारी कार्यसूची के मुताबिक ट्रंप 100 मिनट तक एनआरजी स्टेडियम में रहेंगे. हालांकि उनके भाषण का समय नहीं बताया गया है लेकिन माना जा रहा है कि यह करीब 30 मिनट का होगा. यह भी उम्मीद की जा रही है कि मोदी के भाषण के दौरान ट्रंप दर्शकों में शामिल रहेंगे.

ह्यूस्टन में ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ पीएम मोदी की गोलमेज बैठक सफल रही : विदेश मंत्रालय

‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पूरे अमेरिका से 50,000 से अधिक भारतीय-अमेरिकियों ने अपना पंजीकरण कराया है. यह अमेरिका में प्रभावशाली भारतीयों का सबसे बड़ा समागम है. इंडियाना के प्रमुख भारतीय-अमेरिकी नेता भारती बराय ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘ ह्यूस्टन आकर और ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में शमिल होने के फैसले से ट्रंप ने भारतीय-अमेरिकियों का दिल जीत लिया है. उन्हें वर्ष 2020 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में भारतीय-अमेरिकियों का अधिक मत मिलेगा.’’

‘अमेरिका के लिए ख़ास है भारत, ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम पाक के मुंह पर तमाचा, भारतीय प्रधानमंत्री सबसे बेहतरीन’

प्रधानमंत्री के करीबी मित्र बराय ने 2014 में न्यूयॉर्क स्थित ऐतिहासिक मैडिसन स्क्वॉयर में मोदी का कार्यक्रम आयोजित किया था. बराय ने कहा, ‘‘ दो विशाल लोकतांत्रिक देशों के नेताओं का एक ही मंच पर 50,000 से अधिक लोगों को संबोधित करना ऐतिहासिक है. इससे भारत-अमेरिका के संबंध और मजबूत होंगे.’’

‘हाउडी मोदी’ के लिए ह्यूस्टन तैयार, नमो-नमो करते दिखेंगे ट्रंप, बिके 50 हजार टिकट

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने पिछले हफ्ते कहा, ‘‘ यह अमेरिका और भारत के लोगों के संबंधों को मजबूत करने, दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र और सबसे बड़े लोकतंत्र के बीच रणनीतिक साझेदारी की पुष्टि करने का अवसर प्रदान करेगा.’’

ह्यूस्टन से ट्रंप ओहायो के वापाकोनेटा जाएंगे जहां पर वह ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मैरिसन के साथ ऑस्ट्रेलिया के स्वामित्व वाले उत्पादन संयंत्र का दौरा करेंगे. ओहायो से अमेरिकी राष्ट्रपति संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सत्र को संबोधित करने के लिए न्यूयॉर्क जाएंगे.