नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और तुर्की के राष्ट्रपति रजब एर्दोगान ने दिल्ली में सोमवार को संयुक्त बयान जारी किया. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति एर्दोगान और मैंने दोनों देशों के बीच राजनीतिक, आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत बनाने का फैसला किया है.Also Read - PM GatiShakti Inaugration: पीएम मोदी बोले 'कार्य प्रगति पर है' के चलन को हमने खत्म किया, विकास कार्यों को गति दी

Also Read - G20 Summit में PM मोदी का वैश्विक नेताओं से आह्वान, 'अफगान क्षेत्र चरमपंथ और आतंकवाद का स्रोत नहीं बने'

पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद दोनों देशों के लिए एक साझा चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि कोई भी देश आतंकवाद का समर्थन नहीं कर सकता. दुनियाभर के देशों को एक होकर आतंकी नेटवर्क को खत्म करने पर काम करना चाहिए. इसके अलावा आतंकियों के आर्थिक और सीमा पर गतिविधियों को भी खत्म करने पर काम करना चाहिए. Also Read - ये कैसा सिस्टम है, कोई हमारे मुल्क की गोली से मरे वो ठीक है, मिलिटेंट की गोली से मरे वो गलत: महबूबा मुफ्ती

पीएम मोदी ने कहा कि हिंसा के विचार का समर्थन और प्रसार करने वालों का विरोध और कार्रवाई करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए दोनों देशों ने द्विपक्षीय और बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत कर काम करने का निर्णय लिया है.

राष्ट्रपति रजब एर्दोगान ने कहा कि आतंकवाद के साथ लड़ाई में तुर्की पूरी तरह भारत के साथ खड़ा है. उन्होंने कहा कि आतंकी संगठन पीड़ित लोगों पर अपना प्रोपेगेंडा लॉन्च करना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि एशिया में हो रहे हर तरह के अंतरराष्ट्रीय विकास कार्यों में भारत एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है.