तूतिकोरिन: तमिलनाडु के तूतिकोरिन में स्टरलाइट कॉपर प्लांट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है. फैक्ट्री के आसपास के इलाके में धारा 144 लागू है. बुधवार को भी प्रदर्शनकारी गुस्से में आ गए थे और एक बस में आग लगा दी थी. बता दें कि तूतिकोरिन में हिंसा के पहले दिन 11 और तीसरे दिन दो जानें गई थीं. मरने वाली की कुल संख्या 13 पहुंच गई है. दूसरी तरफ ये भी बताया जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी घायलों से मिलने तूतिकारिन जा सकते हैं. वह वहां स्थिति सामान्य होने का इंतजार कर रहे हैं. Also Read - फ्रांस के प्रोफेसर ने बताया कोरोना वायरस का इलाज, इस चीज़ से ख़त्म हो सकती है महामारी  

जानें अब तक क्या हुआ… Also Read - Covid-19: कोरोनावायरस से लड़ने के लिए सांसद निधि से 35 सांसद देंगे एक-एक करोड़ रुपये

> कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने तूतिकोरिन की घटना को नरसंहार बताया है. उन्होंने कहा कि सरकार जानती है कि प्रदर्शन चल रहा है और बड़ा रूप ले चुका है. सरकार लॉ एंड ऑर्डर को मेंटेन करने के लिए बेहतर कर सकती थी. लेकिन उसने फायरिंग का सहारा लिया. यह जलियावाला बाग की तरह नरसंहार है. Also Read - Chaitra Navratri 2020 6th day: चैत्र नवरात्रि के छठे दिन मां दुर्गा के कात्यायिनी स्वरूप की पूजा, जानें मंत्र, पूजन व‍िध‍ि

> तूतिकोरिन हिंसा के खिलाफ विधानसभा के सामने प्रदर्शन कर रहे डीएमके नेता एमके स्टालिन को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. पुलिस स्टेशन में स्टालिन ने मुख्यमंत्री पलानीस्वामी और राज्य पुलिस अधीक्षक टीके राजेंद्रन के इस्तीफे की मांग की.

> तूतिकोरिन और उससे सटे इलाको में इंटरनेट सुविधा को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है. एक्टर से लीडर बने कमल हासन ने इसका विरोध किया है. उन्होंने तूतिकोरिन में इंटरनेट सर्विस बंद करना किस चीज का अलार्म दे रहा है? आगे क्या? उन्होंने कहा कि कोई भी सरकार जनता से ज्यादा मजबूत नहीं हो सकती है.

> विपक्ष ने शुक्रवार को बंद का आह्वान किया. इसमें डीएमके के साथ कांग्रेस, द्रविडर कझगम, द मरुमलारची द्रविड मुनेत्र कझगम, सीपीआई, सीपीएम, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग जैसी पार्टियां शामिल हैं. विपक्ष के नेताओं ने कहा, ये बंद जनता की भावनाओं को दर्शाएगा.

> स्टरलाइट कॉपर यूनिट में पॉवर सप्लाई को काट दिया गया है. ये कार्रवाई तमिनाडु पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड द्वारा की गई है.

> संवेदनशील इलाके में भारी संख्या में पुलिस की तैनाती की गई है. हालांकि, बुधवार की रात से वहां किसी तरह की कोई हिंसा नहीं हुई है.