मुंबईः महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के काफिले की कारों ने इस साल जनवरी से अगस्त के बीच 13 बार ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन किया. इस कारण उनकी दो कारों पर 13 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है. हालांकि मुख्यमंत्री कार्यालय ने अभी तक इस जुर्माने का भुगतान नहीं किया है. एक स्थानीय व्यक्ति की ओर से सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी में इसका खुलासा हुआ है. Also Read - दिल्ली का एम्स ही बना कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट, 479 पॉजिटिव मामले मिले

Also Read - Coronavirus: धार्मिक स्‍थलों के लिए SOP जारी, घंटी, मूर्ति छूना है प्रतिबंधित, पढ़ें नियम

इस बारे में महाराष्ट्र की ट्रैफिक पुलिस ने कहा है कि सुरक्षा कारणों से महाराष्ट्र के सीएम के काफिले को स्पीड संबंधी नियमों से छूट दी गई है. पुलिस ने यह भी कहा कि एक-एक हजार रुपये के ये चालान ऑटोमेटिक रूप से जेनरेट हुए हैं. राज्य में जगह-जगह सड़कों पर कैमरे लगाए गए हैं. इन कैमरों ने ही सीएम के काफिले की कारों की तेज गति को पकड़ा है. मुंबई के सूचना अधिकार कार्यकर्ता शकील अहमद ने इस साल जनवरी से अगस्त के बीच सीएम के काफिले की कारों द्वारा ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन के बारे में जानकारी मांगी थी. Also Read - कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए होटलों के इस्तेमाल पर पुनर्विचार करे दिल्ली सरकार: भारतीय उद्योग परिसंघ

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जीत सकती है कांग्रेस, 2019 चुनाव में भी रहेगी मोदी लहर: सर्वे

ट्रैफिक पुलिस ने दी सफाई

ट्रैफिक पुलिस ने बताया है कि 12 जनवरी से 12 अगस्त के बीच काफिले की एक कार, जिसका इस्तेमाल सीएम फडणवीस करते हैं, ने पांच बार स्पीड लिमिट का उल्लंघन किया, जबकि अन्य कारों ने आठ बार स्पीड लिमिट का उल्लंघन किया. उन्होंने कहा कि ब्रांदा-वार्ली सीलिंक पर लगाए गए कैमरों ने इन कारों की स्पीड को कैद किया था.

ट्रैफिक पुलिस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि लगाए गए कैमरों के जरिए ये ट्रैफिक चालान जेनरेट हुए. सुरक्षा कारणों से सीएम के काफिले की कारों को स्पीड लिमिट से छूट दी गई है. इस बयान में कहा गया है कि ई-चालान जेनरेट करने वाले सॉफ्टवेयर की इस तकनीकी खामी को दूर किया जाएगा.

सपा अध्‍यक्ष अखिलेश ने 19 मेधावियों को बांटे लैपटॉप, कहा- BJP का गरीब, किसान व कमजोर वर्ग से कोई रिश्ता नहीं