दिल्ली यूनिवर्सिटी के पूर्व लेक्चरर एसएआर गिलानी की गिरफ्तारी के बाद उन्हें आज दोपहर बाद पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया, जिसके बाद अदालत ने उन्हें दो दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। उन्हें पिछली रात ही दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। हाल ही में JNU में लगे देशद्रोही नारों के बाद उन्होंने एक समारोह में देश विरोधी नारे लगाए थे, जिसके तहत उनकी गिरफ्तारी की गई है। आज उनकी गिरफ्तारी के बाद उन्हें चिकित्सीय जांच के लिए आरएमएल अस्पताल ले जाया गया।

इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए पुलिस उपायुक्त जतिन नरवाल ने कहा कि गिलानी को देर रात करीब तीन बजे भारतीय दंड संहिता की धाराओं 124 ए, 120 बी और 149 के तहत गिरफ्तार किया गया। गिलानी को कल रात पूछताछ के लिए थाने बुलाया गया था, जिसके बाद उन्हें वहीं से गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के बाद भी उनसे कई घंटे तक पूछताछ जारी रही। JNU मामले में देश विरोधी नारे लगाए जाने के बाद, गिलानी ने भी प्रेस क्लब में 10 फरवरी को आयोजित एक समारोह में अफजल गुरु के समर्थन में नारे लगाए थे। इस नारेबाज़ी के दौरान गिलानी और तीन अन्य वक्ता उस वक्त मंच पर मौजूद थे।

 

ये भी पढ़ें: डीयू के पूर्व प्रोफेसर गिलानी गिरफ्तार

इस बारे में पुलिस ने खुद गिलानी और अन्य लोगों के खिलाफ 12 फरवरी को मामला दर्ज किया। पुलिस के मुताबिक गिलानी इस कार्यक्रम के मुख्य आयोजक थे। इस बारे में एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि गिलानी ने ईमेल के जरिए प्रेस क्लब का सभाग्रह बुक करने का अनुरोध किया था। पर चौंकानेवाली बात यह है कि यह सार्वजनिक सभा थी, पर ऐसा हुआ नहीं। इस मामले में पुलिस अधिकारीयों ने प्रेस क्लब के सदस्य और डीयू के प्रोसेफर अली जावेद से लगातार दो दिन पूछताछ की।