नई दिल्ली: 2012 के निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले के दोषियों को फांसी देने के लिए तिहाड़ जेल उत्तर प्रदेश से दो जल्लाद उपलब्ध कराने की मांग करेगी. तिहाड़ जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को कहा, ”काफी संभावना है कि हम गुरुवार को उत्तर प्रदेश जेल प्राधिकरण को पत्र लिखेंगे और उपलब्धता के आधार पर दो जल्लादों की सेवा उपलब्ध कराने का आग्रह करेंगे.”

बता दें कि निर्भया सामूहिक बलात्कार एवं हत्या मामले के दोषियों के खिलाफ मंगलवार को दिल्ली की एक अदालत द्वारा मौत का फरमान जारी कर दिया गया. इस मामले के चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह सात बजे फांसी दी जाएगी.

अधिकारी ने बताया कि दोषियों के खिलाफ मृत्यु वारंट जारी होने से पहले पिछले महीने तिहाड़ के अधिकारियों ने उत्तर प्रदेश जेल प्राधिकरण को पत्र लिखकर मेरठ से एक जल्लाद भेजने की मांग की थी.

दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को दोषियों-मुकेश (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) के खिलाफ मृत्यु वारंट जारी किया और उन्हें 22 जनवरी को सुबह सात बजे फांसी पर लटकाने का आदेश दिया.

बता दें कि मंगलवार को निर्भया के दोषियों के डेथ वारंट जारी होने के बाद पवन जल्लाद ने कहा था कि वह निर्भया सामूहिक बलात्कार एवं हत्या मामले के दोषियों को फांसी पर लटकाने के लिए न केवल तैयार है बल्कि आतुर है. मेरठ के पवन जल्लाद ने मंगलवार कहा, ” हालांकि मुझे अभी तक इन दोषियों को फांसी पर चढ़ाने संबंधी कोई आदेश नहीं मिला है। लेकिन मैं उन्हें फांसी पर चढ़ाने के लिए तैयार ही नहीं, बल्कि आतुर हूं.”

पवन जल्लाद ने बताया कि कुछ दिन पहले उसे जेल प्रशासन की तरफ से फांसी देने के लिए तैयार रहने को कहा गया था. लेकिन इस बारे में कोई लिखित आदेश अभी तक नहीं मिला है.

उधर, मेरठ जेल के अधीक्षक डॉ. वी. पी. पाण्डेय ने बताया कि कुछ दिन पहले दिल्ली के तिहाड़ जेल प्रशासन की तरफ से उन्हें मेरठ के जल्लाद को फांसी देने के लिए तैयार रखने को कहा गया था. हालांकि मंगलवार को अदालत का फैसला आने के बाद से तिहाड़ जेल प्रशासन की तरफ से जल्लाद को बुलाने का कोई पत्र अभी तक नहीं आया है. संभव है कि कल रात तक आ जाए.