चंडीगढ़: हरियाणा विधानसभा चुनावों से पहले इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) को एक और झटका देते हुए पार्टी के दो विधायक मंगलवार को चंडीगढ़ सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हो गए. इनेलो के दो विधायक- जुलाना निर्वाचन क्षेत्र के परमिंदर धुल और नूह निर्वाचन क्षेत्र के जाकिर हुसैन, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हो गए.

भाजपा में इन दो विधायकों के शामिल हो जाने के साथ ही इनेलो जो कुछ महीनों पहले 19 सदस्यों के साथ हरियाणा की मुख्य विपक्षी पार्टी थी, अब घट कर महज सात विधायकों की पार्टी रह गई. बराला ने बताया कि इसके अलावा जननायक जनता पार्टी (जजपा) की रोहतक जिला इकाई के प्रमुख धरमपाल मकरोली भी इस मौके पर भाजपा में शामिल हुए.

इनेलो के इन दो विधायकों ने कहा कि इससे पहले सुबह में उन्होंने हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष कंवर पाल से यहां विधानसभा में मुलाकात की और अपने इस्तीफे सौंपे. पार्टी के 19 सदस्यों में से इसके दो विधायकों की पिछले 10 महीने के दौरान मौत हो गई थी. शेष 17 विधायकों में से चार जजपा में, पांच भाजपा में और एक कांग्रेस में शामिल हो गया था.

खट्टर और बराला दोनों ने इनेलो विधायकों का पार्टी में स्वागत किया. बराला ने कहा कि उनके शामिल होने से पार्टी और मजबूत होगी, जबकि खट्टर ने कहा कि, भाजपा का परिवार बढ़ रहा है.

पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली पार्टी को छोड़ने के कई मामले सामने आ चुके हैं. चौटाला परिवार में अंतर्कलह के बाद पार्टी में फूट पड़ गई. पिछले साल दिसंबर में दुष्यंत चौटाला अलग जननायक जनता पार्टी (जजपा) बना चुके हैं. वर्ष 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में इनेलो को 90 में से 19 सीटें मिली थीं. पार्टी के दो विधायकों का निधन हो चुका है और नौ विधायक पार्टी छोड़कर भाजपा, जजपा या कांग्रेस में शामिल हो गए. जजपा समर्थक चार विधायकों ने न तो पार्टी से इस्तीफा दिया है और न ही विधानसभा से. पार्टी छोड़ने की हाल की घटनाओं के बाद विधानसभा में इनेलो विधायकों की संख्या घटकर आठ रह जाएगी