बेंगलुरूः बेंगलुरू एयरपोर्ट के पास मध्यप्रदेश के दो मंत्रियों सहित करीब एक दर्जन कांग्रेस नेताओं को हिरासत में ले लिया गया. ये नेता कांग्रेस के बागी 19 विधायकों से मिलना चाहते थे. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि एयरपोर्ट के एंबेसी बॉलेवार्ड क्लब के नजदीक से मध्यप्रदेश के दो मंत्रियों जीतू पटवारी और लाखन सिंह को हिरासत में लिया गया था. हालांकि कुछ पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया. बागी विधायक उनसे मिलना नहीं चाहते थे, इसीलिए उन्हें हिरासत में लिया गया. Also Read - दीया जलाने के दौरान बीजेपी महिला जिला अध्यक्ष ने की थी फायरिंग, FIR दर्ज, अब मांग रहीं माफी

हिरासत से छूटने के बाद मंत्रियों ने कहा कि किसी से मिलना गुनाह कैसे हो सकता है हम अपने दोस्तों से मिलने के लिए यहां आए थे. पार्टी के एक सूत्र ने कहा कि एक बागी विधायक मनोज चौधरी भी क्लब पहुंचे थे जिन्हें यह जानकारी मिली थी कि उनके पिता उनसे मिलने आए हैं. लेकिन पुलिस ने उन्हें किसी से मिलने नहीं दिया और हिरासत में ले लिया. इसके बाद यहां आने वाले नेता वापस लौट गए. बागी विधायकों ने रिसॉर्ट प्रबंधकों और पुलिस से कहा था कि कोई भी उनसे मिलने आए तो मिलने न दिया जाए. Also Read - मध्य प्रदेश में बेकाबू रेत माफिया लॉकडाउन में भी कर रहे हैं खनन, ग्वालियर में सरकारी अमले पर किया हमला

आपको बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने और भाजपा का दामन थामने से मध्य प्रदेश की राजनीति में भूचाल आ गया है. ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थन में 19 और विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है जिसकी वजह से कमलनाथ सरकार पर अब बहुमत साबित करने का खतरा मडरा रहा है.

बेंगलुरु में इन्हीं बागी विधायकों और मंत्रियों से मिलने पहुंचे मध्य प्रदेश की कमलनाथ की कांग्रेस (Congress) सरकार के मंत्री जीतू पटवारी (Jitu Patwari) से बीजेपी नेताओं और पुलिस से भिड़ंत हो गई. इसके वीडियो भी सामने आ गए हैं, जिसमें जीतू पटवारी से कुछ लोग और पुलिस की धक्का-मुक्की होती दिख रही है. जीतू पटवारी के साथ मंत्री लाखन सिंह भी साथ थे. इस पूरे प्रकरण के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने कहा कि जीतू पटवारी और लाखन सिंह के साथ मारपीट की गई है. हमें खबर मिली है कि दोनों को अरेस्ट भी कर लिया गया है.