बेंगलुरू: कर्नाटक के बेंगलुरु स्थित केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (केआईए) ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस के ‘ओमीक्रोन’ स्वरूप के बाद नए नियमों के अनुसार बिना जोखिम वाले देशों से पहुंचने वाले दो प्रतिशत लोगों को औचक कोविड जांच से गुजरना होगा. हवाई अड्डे का प्रबंधन देखने वाली कंपनी बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (बीआईएएल) ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय यात्रा दिशानिर्देशों के अनुसार, जो देश जोखिम वाले देशों की सूची में शामिल नहीं हैं, वहां से आने वाले यात्रियों में से दो प्रतिशत को आगमन पर हवाई अड्डे पर औचक (कोविड) परीक्षण से गुजरना होगा.’’Also Read - एलन मस्क के लिए पलक पांवड़े बिछाने को तैयार हैं कई राज्य, अब बेंगलुरु में टेस्ला प्लांट स्थापित करने के लिए किया आमंत्रित

‘ओमीक्रोन’ से दुनियाभर में चिंता के बीच भारत सरकार ने 30 नवंबर को कुछ नए दिशानिर्देश जारी किए थे, जिनमें कहा गया है कि जोखिम सूची से बाहर के देशों के यात्रियों को हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी और आगमन के बाद उन्हें 14 दिन के लिए अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करनी होगी. इनमें कहा गया है कि ऐसे हवाई यात्रियों में से कुछ या दो प्रतिशत को आगमन के बाद हवाई अड्डे पर औचक कोविड जांच से गुजरना होगा. Also Read - Covid Test New Guidelines: संक्रमित मरीज के संपर्क में आने वालों को कोरोना टेस्ट कराने की जरूरत नहीं, जब तक कि...

निर्देशों के अनुसार, प्रत्येक उड़ान में ऐसे यात्रियों में से दो प्रतिशत की पहचान संबंधित एअरलाइन द्वारा की जानी चाहिए और ऐसे यात्रियों को आगमन पर परीक्षण क्षेत्र में एअरलाइन या नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा ले जाया जाना चाहिए. Also Read - Chhattisgarh में कोरोना के चलते Night Curfew समेत नए प्रतिबंध लागू, देखें Guidelines

केंद्र सरकार के आदेश में कहा गया है कि ‘जोखिम’ श्रेणी में शामिल देशों से आने वाले यात्रियों को एअरलाइन द्वारा सूचित किया जाना चाहिए कि उन्हें पहुंचने पर जांच करानी होगी और संक्रमित पाए जाने के बाद कड़े पृथक-वास प्रोटोकॉल से गुजरना होगा.

(इनपुट भाषा)