चंडीगढ़: हरियाणा के महेन्द्रगढ़ में कुछ लोगों ने जम्मू कश्मीर के रहने वाले दो छात्रों की कथित तौर पर पिटाई कर दी. इसके बाद मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. हरियाणा के केंद्रीय विश्वविद्यालय के छात्र आफताब अहमद और अमजद ने दावा किया कि शुक्रवार को अज्ञात लोगों के एक समूह ने बिना किसी कारण के उनकी पिटाई की.Also Read - Marital Rape: सहमति के बिना पत्नी से यौन संबंध बनाना रेप है या नहीं, इस पर हाईकोर्ट में हो रही चर्चा

पुलिस ने दावा किया कि मोटरसाइकिल से एक मामूली हादसा होने के बाद शिकायतकर्ता और दो स्थानीय लोगों के बीच कहासुनी हुई थी. पुलिस ने बताया कि इसके बाद स्थानीय लोगों ने और लोगों को बुला लिया और जिसने बाद में कथित तौर उनकी पिटाई कर दी. Also Read - Revised Guidelines: कोरोना पर सरकार की संशोधित गाइडलाइंस- 5 साल से कम उम्र के बच्चों का मास्क लगाना जरूरी नहीं

हालांकि, अहमद ने बताया, ‘‘कल हम महेन्द्रगढ़ के एक बाजार गये थे. नमाज के बाद, जब हम अपनी मोटरसाइकिल स्टार्ट कर रहे थे, 15 से 20 लोग आए और बिना कारण के हमारी पिटाई शुरू कर दी.’’ Also Read - Nia Sharma ने फोटोशूट के लिए खोलीं शर्ट की बटनें, फैंस बोले- जो जले, साइड में चले

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘हमने छह लोगों की पहचान की है और उनमें से तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.’’

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपने हरियाणा के समकक्ष मनोहर लाल खट्टर से इस मामले में सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करने को कहा है.

हरियाणा के मुख्यमंत्री को टैग करते हुये महबूबा ने कहा, ‘‘हरियाणा के महेन्द्रगढ़ में कश्मीरी छात्रों की पिटाई की खबर सुनकर हैरान और परेशान हूं. मैं प्रशासन से जांच करने और कड़ी कार्रवाई करने का अनुरोध करती हूं.’’

जम्मू कश्मीर विधानसभा में हंगामा
जम्मू कश्मीर विधानसभा में हरियाणा में दो कश्मीरी छात्रों पर कथित हमले को लेकर हंगामेदार दृश्य शनिवार को देखने को मिला. सरकार पर इस तरह की घटनाओं को रोकने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए कई विपक्षी सदस्यों ने शून्यकाल के दौरान सदन से बहिर्गमन किया. राज्य सरकार ने सदन को आश्वासन दिया कि मामले को हरियाणा के साथ उठाया गया है और मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

विपक्षी सदस्यों ने इस बात पर भी सवाल पूछे कि क्यों सरकार ने आगामी पंचायत चुनावों पर चर्चा के लिये सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जब उसने पहले ही सभी फैसले कर लिये हैं.