संयुक्त राष्ट्र: युद्ध और आतंकवाद से जूझ रहे सीरिया के संकट को हल करने के लिए संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ में संघर्ष विराम के मसौदे के प्रस्‍ताव को लेकर शुक्रवार को होने वाली वोटिंग रुक गई. अब संभावना है कि ये वोटिंगशनिवार को हो सकती है. ये मतदान सुरक्षा परिषद के 5 स्‍थाई और 10 अस्‍थाई सदस्‍य करते हैं. संयुक्त राष्ट्र में स्वीडन के राजदूत ओलोफ स्कूग ने कहा कि वह शुक्रवार को हुए इस गतिरोध से बेहद हताश थे. उन्होंने कहा, ‘मैं बेहद हताश हूं कि संयुक्त राष्ट्र सीरिया के लोगों के कष्ट कम करने का प्रयास करने वाले इस मसौदे पर सहमति नहीं बना पाया.’ उन्होंने कहा कि इस पर अब शनिवार को मतदान होगा. Also Read - Coronavirus: दुबई के हेल्थ वर्कर्स के साथ मोहम्मद बिन राशिद की बातचीत VIRAL,जानें क्या बोले UAE के शासक

गोपनीय वार्ता के बाद भी नहीं हो पाई सहमति
यूएन में कुवैत के राजदूत मंसूर अली ओतेबी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया में 30 दिवसीय संघर्ष विराम की मांग संबंधी मसौदा प्रस्ताव पर मतदान शनिवार तक के लिए स्थगित कर दिया है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, फरवरी माह के लिए सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष अल ओतेबी ने कहा कि सुरक्षा परिषद के सदस्यों के बीच शुक्रवार को कई दौर की गोपनीय वार्ता के बाद कोई सहमति नहीं बन पाई. Also Read - कोरोना वायरस के बचने के लिए चीन स्टेडियम को ही बना डाला अस्पताल

सहमति बनाने की कोशिश जारी,15 सदस्‍य करेंगे वोटिंग
ओतेबी ने कहा कि परिषद के सदस्य इस मसौदे पर सहमति बनाने के बहुत करीब थे लेकिन वे मतभेदों को दूर नहीं कर पाए. उन्‍होंने बताया, ‘हम इस मसौदे पर सहमति बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं और उम्मीद है कि परिषद के सभी 15 सदस्य एकजुट होकर इसके पक्ष में वोट करेंगे.’ Also Read - WHO ने कोरोना वायरस को घोषित किया 'महामारी', भारत ने बचाव के लिए उठाया यह कदम

30 दिवसीय संघर्ष विराम की मांग 
कुवैत और स्वीडन द्वारा तैयार किए गए इस मसौदे में सीरिया में 30 दिवसीय संघर्ष विराम लागू करने की मांग की गई है, ताकि इस बीच मानवीय सहायता पहुंचाई जा सके और संकटग्रस्त क्षेत्रों से गंभीर रूप से बीमार लोगों को सकुशल निकाला जा सके. इस मसौदे पर पहले शुक्रवार को मतदान होना था.

स्वीडन के राजदूत बोले- हार नहीं मानेंगे
स्कूग ने हाल ही में हिंसा में बढ़ोतरी का उल्लेख करते हुए कहा, ‘हम हार नहीं मानेंगे, क्योंकि इस समय संघर्ष-विराम की सख्त जरूरत है.’ स्कूग ने बताया,’मुझे उम्मीद है कि हम शनिवार को सशक्त, सार्थक और प्रभावशाली मसौदा पारित कर पाएंगे.’ उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि हम सभी इससे सहमत होंगे कि संघर्ष विराम को तत्काल भाव से लागू करने की जरूरत है. इसे किस तरह से प्रभावी किया जाए, इस पर चर्चा होना बाकी है.’ (एजेेंसी इनपुट )