नई दिल्ली। बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के कोचों पर मिथिला आर्ट की चित्रकारी का संयुक्त राष्ट्र भी मुरीद हो गया है. यूएन ने इसके लिए भारतीय रेलवे और ट्रेनों में मधुबनी आर्ट बनाने वालों की जमकर तारीफ की है. बता दें कि बिहार संपर्क क्रांति के 9 कोचों को सुंदर मधुबनी पेंट से रंगा गया है और इनकी सुंदरता देखते ही बनती है.

यूएन ने जमकर की तारीफ 

यूएन ने एक ट्वीट में कहा- ये भारतीय रेलगाड़ियां कितनी सुंदर हैं. बिहार की महिलाओं ने इन कोचों को पारंपरिक मिथिला आर्ट से रंगा है जिसे मधुबनी आर्ट के नाम से भी जाना जाता है. इन कलाकारों ने अपनी अंगुलियों, माचिल की तीलियों, ब्रश, नेचुरल डाई और रंगों के साथ इन्हें बनाया है.

इससे पहले बिहार के रेलवे स्टेशनों की दीवारों पर मधुबनी आर्ट से चित्रकारी की गई थी जिसने हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींचा था. मधुबनी बिहार के मिथिला क्षेत्र की एक लोक चित्रकारी है जिसमें जियोमैट्रिक पैटर्न के साथ रंगारंग पेंटिंग की जाती है.
देश के सबसे गंदे स्टेशनों में से एक मधुबनी बना भारत का दूसरा सबसे खूबसूरत स्टेशन

रिपोर्ट के मुताबिक, पटना राजधानी के 22 कोचों को अंदर और बाहर से मधुबनी आर्ट से रंगा जाएगा. पारंपरिक आर्ट को बढ़ावा देने के लिए इस तरह की पहल की गई है. इसकी देखादेखी और दूसरे राज्यों ने भी इस विचार को अपनाना शुरू कर दिया है और जल्द ही यात्रियों को दूसरी रेलगाड़ियां भी रंगबिरंगी नजर आएंगी.