नई दिल्ली: केन्द्र सरकार ने बुधवार को राज्य सरकारों से कोरोना वायरस के संक्रमण की वृद्धि दर के मुताबिक तीन श्रेणियों में बांटे गये जिलों में सघन संक्रमण रोधी अभियान चलाने को कहा है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सर्वाधिक संक्रमण वाले 170 जिलों को हॉटस्पॉट जिले, सीमित संक्रमण वाले 207 जिलों को ‘संभावित हॉटस्पाट जिले’ और संक्रमण मुक्त शेष जिलों को ‘ग्रीन जोन’ में बांटते हुये राज्यों से कहा है कि अगर उनकी दृष्टि में ऐसे कोई जिले हैं जो हॉटस्पॉट के मानकों को पूरा करते हों, तो वे इन्हें इस श्रेणी में शामिल कर सकते हैं. Also Read - ICMR का बड़ा बयान, कहा- कोरोना के इलाज में अब प्लाज्मा थेरेपी बेअसर, उपचार प्रोटोकॉल से हटाने की योजना

स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन ने सभी राज्यों के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर जिलों को तीन श्रेणियों में बांट कर नये दिशानिर्देशों के मुताबिक संक्रमण रोधी अभियान चलाने को कहा है. उल्लेखनीय है कि मंत्रालय द्वारा चिन्हित देश के 25 राज्यों के 170 हॉटस्पॉट जिलों में से 123 जिले गंभीर संक्रमण के प्रभाव वाले हैं. जबकि 47 हॉटस्पॉट जिलों में ऐसे इलाके शामिल हैं जिनमें एक ही स्थान पर कम से कम 15 मरीज पाये गये. इन क्षेत्रों को ‘क्लस्टर’ घोषित किया गया है. Also Read - कोरोना से लड़ने में PM मोदी की अपील को मंत्र बनाएं देश के लोग: अमित शाह

इसके अलावा 27 राज्यों में 207 संभावित हॉटस्पॉट जिले शामिल हैं. सूदन ने राज्य सरकारों से देश के सभी जिलों में सघन संक्रमण रोधी अभियान चलाने को कहा है. उन्होंने कहा कि केन्द्रीय स्तर पर प्रत्येक जिले में चलाये गये अभियान की सख्त मानकों पर आधारित समीक्षा की जायेगी. मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार अधिक संक्रमण वाले 22 जिले तमिलनाडु में हैं, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश में 11-11 जिले, उत्तर प्रदेश के नौ, तेलंगाना के आठ, केरल के छह, मध्य प्रदेश और गुजरात के पांच, पश्चिम बंगाल के चार और कर्नाटक के तीन जिले अधिक संकमण वाले जिलों में शामिल हैं. Also Read - कब आएगी कोरोना वायरस की वैक्सीन, जानें पीएम मोदी ने देश को क्या बताया