नई दिल्लीः भारत में लगातार कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं. राष्ट्रीय राजधानी में भी लॉकडाउन के बावजूद हर रोज कोरोना के तेजी से मामले सामने आ रहे हैं. सोमवार को दिल्ली में 196 मामले आए थे. अब कोरोना का खतरा डॉक्टर्स पर भी बढ़ रहा है. दिल्ली में के बाबू जगजीवन अस्पताल में आज एक डॉक्टर सहित पांच लोग संक्रमित पाए गए. Also Read - कोविड-19 जांच के लिए 4,500 रुपए की सीमा हटाई गई, अब राज्य और निजी प्रयोगशालाएं तय करेंगी कीमत

डॉक्टर्स पर बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने चिंता जताई है. इस मामले पर आज उन्होंने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के अलावा सभी राज्यों के डीएम और डीएसपी सहित आला अधिकारियों के साथ बैठक की. केंद्रीय मंत्री की यह बैठक वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के जरिए हुई. Also Read - कोविड-19 से प्रभावित भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए नकदी की है जरूरत : गडकरी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि, दिल्ली में 26 नर्स, 24 फील्ड वर्कर्स, 33 डॉक्टर्स और 13 पैरामेडिकल स्टाफ सहित करीब 4.11 प्रतिशत हेल्थ वर्कर्स कोरोना वायरस से प्रभावित हैं. जो कि काफी चिंता का विषय है. Also Read - विदेश से आने वाले भारतीयों को अब 7 दिन रहना होगा क्वारंटाइन, वापस किए जाएंगे बचे हुए पैसे

दिल्ली में कोरोना के करीब 100 हॉटस्पॉट हैं. यह नंबर कम होना चाहिए. उन्होंने कहा कि हम सब को मिलकर ऐसे कारगर कदम उठाने होंगे जिससे हमारे कोरोना वारियर्स इस खतरे से बच सकें. उन्होंने कहा कि डॉक्टर्स और हेल्थ वर्कर्स कोरोना की लड़ाई में सबसे प्रमुख कड़ी हैं इसलिए हमें उनकी सुरक्षा के लिए हर प्रकार से प्रयासरत रहना होगा.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दिल्ली में लगातार बढ़ रहे हॉटस्पॉट के मामेल भी चिंता का विषय हैं इनकी संख्या में जल्द ही कमी आनी चाहिए. इसी के साथ उन्होंने सभी जिलों के कोरोना के हालात को भी समझा.