नई दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शुक्रवार को 34-सदस्यीय डब्ल्यूएचओ कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष का कार्यभार संभाल लिया. भारत ने कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष का पद ऐसे समय में संभाला है, जबकि चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस के उत्पन्न होने और बीजिंग द्वारा इसके संबंध में उठाए गए कदमों की जांच की मांग तेज हो रही है. Also Read - MP: मेडिकल कॉलेज की नर्स, 2 लैब टेक्निशियन रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्‍लैक में बेचते हुए गिरफ्तार

अधिकारियों ने यह जानकारी दी. हर्षवर्धन कोविड​​-19 महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई में अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं. हर्षवर्धन ने जापान के हिरोकी नकातानी का स्थान लिया है. उन्होंने कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनिया भर में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति शोक जताया. Also Read - कोविड-19 से ठीक होने के बाद तिहाड़ जेल भेजा गया गैंगस्टर Chhota Rajan

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में चुने जाने के बाद अपनी टिप्पणी में हर्षवर्धन ने यह भी कहा कि महामारी के कारण उत्पन्न मौजूदा संकट से निपटने के लिए वैश्विक साझेदारी को मजबूत बनाने और साझा प्रतिक्रिया की आवश्यकता है. Also Read - देश में Lockdown जैसी पाबंदियों का दिखने लगा असर! महाराष्ट्र, दिल्ली समेत 18 राज्यों में नए केस में कमी- जानें अपने राज्य का हाल...

कार्यकारी बोर्ड में भारत द्वारा नामित व्यक्ति को नियुक्त करने के प्रस्ताव पर 194 देशों के विश्व स्वास्थ्य निकाय ने मंगलवार को हस्ताक्षर किया. पिछले साल, डब्ल्यूएचओ के दक्षिण-पूर्व एशिया समूह ने कार्यकारी बोर्ड में तीन साल के लिए भारत के प्रतिनिधि का सर्वसम्मति से चुनाव करने का फैसला किया था.

अध्यक्ष का पद क्षेत्रीय समूहों के पास एक वर्ष के लिए क्रमिक आधार पर रहता है. पिछले साल यह तय किया गया था कि शुक्रवार से शुरू होने वाले पहले वर्ष के लिए भारतीय उम्मीदवार कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष होंगे. एक अधिकारी ने बताया कि यह पूर्णकालिक कार्य नहीं है और मंत्री को कार्यकारी बोर्ड की बैठकों की अध्यक्षता करनी होगी.

कार्यकारी बोर्ड में 34 सदस्य होते हैं, जो स्वास्थ्य विशेषज्ञ होते हैं. बोर्ड की साल में कम से कम दो बार बैठक होती है. मुख्य बैठक आम तौर पर जनवरी में होती है, जबकि दूसरी बैठक अपेक्षाकृत छोटी होती है और मई में होती है.