बेंगलुरू: नागरिकता (संशोधन) कानून के विरोध में राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन के बीच केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति को देखते ही गोली मारने का आदेश दिया है. रेल राज्य मंत्री ने हुब्बली में कहा कि यदि कोई व्यक्ति रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहा है, तब मैं उस राज्य के मुख्यमंत्री से ‘सख्त कार्रवाई’ करने को कहूंगा, ठीक उसी तरह जैसे कि सरदार वल्लभभाई पटेल ने भारत संघ में हैदराबाद के विलय के दौरान कदम उठाया था.Also Read - CAA से अल्पसंख्यकों में डर पैदा हुआ, इसके खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तमिलनाडु सरकार- सीएम स्टालिन बोले

Also Read - Year End 2020: देश के कई बड़े नेता नहीं रहे, साल 2020 में छोड़ गए अपनी यादें

यह पूछे जाने पर कि सख्त कार्रवाई से उनका मतलब क्या है, रेल राज्य मंत्री ने कहा कि सख्त कार्रवाई का मतलब है कि देखते ही गोली मार दी जाए…. ” दरअसल, संवाददाताओं ने नागरिकता (संशोधन) कानून से जुड़े प्रदर्शनों के चलते रेलवे संपत्ति को पहुंचाए जा रहे नुकसान को रोकने के लिए कदमों के बारे में उनसे पूछा था. जिस पर उन्होंने यह बात कही. गौरतलब है कि हैदराबाद का भारत संघ में विलय भारत के प्रथम गृह मंत्री सरदार पटेल के नेतृत्व में पुलिस कार्रवाई के बाद किया गया था. पटेल ने निजाम (हैदराबाद के) और उसकी सेना को आत्मसमर्पण के लिए मजबूर कर दिया था. Also Read - पश्चिम बंगाल में बोले जेपी नड्डा, बहुत जल्द लागू होगा नागरिकता संशोधन कानून

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने की देशभर के छात्रों से अपील, न हों अफवाहों के शिकार

सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं विपक्षी दल
हाल ही में, नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों ने पश्चिम बंगाल में रेल पटरियों को बाधित कर दिया था, कुछ स्टेशनों पर तोड़फोड़ की और रेलवे पटरियों पर आग लगा दी, जिसके चलते रेल सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हुईं. अंगड़ी ने कहा कि आज जो विपक्षी दल इस कानून का विरोध कर रहे हैं उन्हें आत्मावलोकन करना चाहिए. वे इस मुद्दे पर राजनीति कर रहे हैं. विपक्षी दल सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं. मैं संबद्ध राज्यों से उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का अनुरोध करता हूं.’