नई दिल्ली: अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को कहा कि आप किसी को ‘जय श्री राम’ कहने के लिए उसे गले तो लगा सकते हैं, लेकिन यह कहने के लिए बल प्रयोग नहीं कर सकते. यहां एक कार्यक्रम से इतर नकवी ने कहा, “जय श्री राम गला दबाकर नहीं बोला जाता, बल्कि गले लगाकर बोला जाता है.”

मदरसा शिक्षक को चलती ट्रेन से फेंका, ‘जय श्रीराम’ नहीं बोलने पर ढकेलने का आरोप

भाजपा नेता झारखंड में एक मुस्लिम युवक की भीड़ द्वारा पहले चोरी के आरोप में पिटाई और फिर उसे जय श्री राम कहने के लिए बाध्य किए जाने पर प्रतिक्रिया दे रहे थे. इस युवक ने बाद में दम तोड़ दिया. नकवी ने इस घटना को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताते हुए कहा कि इस तरह की घटनाओं को किसी भी रूप में सही नहीं ठराया जा सकता.

झारखंड लिंचिंग केस: युवक को पीट-पीट कर मारने के मामले 5 अरेस्ट, 2 पुलिसकर्मी निलंबित

उन्होंने कहा, “हम पूरी तरह से अपने विकास के एजेंडे के लिए समर्पित हैं. विध्वंस के किसी एजेंडे के लिए कोई जगह नहीं है.” उन्होंने कहा कि ‘शरारती लोग’ सरकार की छवि को खराब करने के लिए इस तरह की हिंसा कर रहे हैं. उन्हें कानून का सामना करना होगा.