नई दिल्ली: पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली का पार्थिव शरीर रविवार को भाजपा मुख्यालय लाया गया, जहां केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह और वरिष्ठ पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन, प्रकाश जावड़ेकर, पीयूष गोयल, अनुराग ठाकुर और आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने भी जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित की. बता दें कि 66 वर्षीय जेटली का शनिवार को एम्स में निधन हो गया था, जहां 9 अगस्त को उन्हें इलाज के लिए भर्ती कराया गया था.

हर्षवर्धन ने कहा, जेटली का निधन अपूरणीय क्षति है और उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा. भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि अपराह्न करीब 2:30 बजे यमुना किनारे निगम बोध घाट पर जेटली का पूरे राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार किया जाएगा. म‍िली खबर के मुताबिक,  पार्थिव शरीर को फूलों से सजी तोप गाड़ी में अंतिम संस्कार स्थान पर ले जाया जा रहा है .

भाजपा मुख्यालय में जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित करने वालों में मणिपुर की राज्यपाल नज्मा हेपतुल्ला, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और योग गुरु रामदेव भी शामिल रहे.

रूपाणी ने पत्रकारों से कहा, ”वह गुजरात से राज्यसभा सदस्य रहे. हम राज्य में उनकी रणनीति की मदद से कई चुनाव जीते. हम उनकी कमी हमेशा महसूस करेंगे.”

जेटली के पार्थिव शरीर को तिरंगे में लपेटकर उनके कैलाश कॉलोनी स्थित आवास से दीन दयाल उपाध्याय स्थित भाजपा मुख्यालय लाया गया. भाजपा मुख्यालय के बाहर पार्टी कार्यकर्ता अपने नेता को अंतिम श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए कतार में खड़े थे और ‘जब तक सूरज चांद रहेगा जेटली तेरा नाम रहेगा’ और ‘जेटली जी अमर रहें’ जैसे नारे लगा रहे थे.

भावुक नज्मा हेपतुल्ला ने कहा, ”वह महान वक्ता एवं सांसद थे. उनका निधन देश और पार्टी के लिए बड़ी क्षति है. पार्टी जब भी किसी समस्या का सामना करती, उनकी राय ली जाती.”

शनिवार को जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर रखा गया था जहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और विभिन्न दलों के नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे.

शाह ने शनिवार को कहा कि जेटली भ्रष्टाचार के खिलाफ एक योद्धा थे और जनता के लिए जनधन योजना लाने, नोटबंदी एवं जीएसटी के सफल क्रियान्वयन का श्रेय उन्हें जाता है.