कोरोना के Omicron वैरिएंट ने दुनिया में मचाया हड़कंप, ब्रिटेन में दो मामले सामने आए; दक्षिण अफ्रीका बोला- बलि का बकरा ढूढ रहे हैं कुछ देश

दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्री जो फाहला ने शुक्रवार को कहा कि कोविड के नए व संभावत ज्यादा संक्रामक स्वरूप के कारण एक के बाद एक कई देशों द्वारा उनके देश पर यात्रा पाबंदी लगाना ‘क्रूर’ और ‘गलत दिशा में उठाया गया कदम’ है.

Advertisement

Omicron Latest News: ब्रिटेन सरकार ने शनिवार को कहा कि देश में कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमीक्रोन के दो मामलों की पुष्टि हुई है. वायरस के नए स्वरूप के मामलों के मद्देनजर अफ्रीका के चार और देशों को ब्रिटेन की यात्रा संबंधी रेड लिस्ट’ में शामिल किया गया है. स्वास्थ्य मंत्री साजिद जावेद ने बताया कि ब्रिटेन स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (यूकेएचएसए) ने चेम्सफोर्ड, एसेक्स और नॉटिंघम में वायरस के नए स्वरूप से संक्रमित मरीजों की पहचान की. दोनों मामले एक दूसरे से जुड़े हैं. दोनों मरीज अपने-अपने घरों पर पृथक-वास में हैं और उनके संपर्क में आए लोगों की तलाश की जा रही है. ब्रिटेन ने शुक्रवार को दक्षिण अफ्रीका, नामीबिया, जिम्बाब्वे, बोत्सवाना, लेसोथो और इस्वातिनी को रेड लिस्ट’ में रखा. शनिवार को उस सूची में अंगोला, मोजाम्बिक, मलावी और जाम्बिया को जोड़ने की घोषणा की गई. जाएगा. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, हम हमेशा निर्णायक कदम उठाते रहे हैं. यदि आवश्यक हो तो हम आगे की कार्रवाई करने में संकोच नहीं करेंगे.’’

Advertising
Advertising

जावेद ने कहा, हम लक्षित इलाकों में जांच करवाएंगे और संक्रमण की पुष्टि वाले नमूनों का अनुक्रमण किया जाएगा.’’ स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, यह हमें याद दिलाता है कि यह महामारी अभी खत्म नहीं हुई है. यदि कोई ऐसा काम है जो हर कोई कर सकता है तो वह यह है कि आप पात्र होने पर टीके की खुराक लें.’’ संभावित रूप से अधिक संक्रामक बी.1.1.529 स्वरूप के बारे में पहली बार 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को सूचित किया गया था और इसके बाद बोत्सवाना, बेल्जियम, हांगकांग और इजराइल में भी इसकी पहचान की गई है. डब्ल्यूएचओ ने शुक्रवार को इसे चिंताजनक’’ स्वरूप बताते हुए ओमीक्रोन नाम दिया. चिंताजनक स्वरूप’’ डब्ल्यूएचओ की कोरोना वायरस के ज्यादा खतरनाक स्वरूपों की शीर्ष श्रेणी है.

ब्रिटेन के अधिकारियों ने कहा कि देश में दो नए मामलों का इसलिए पता चल पाया क्योंकि ब्रिटेन जीनोम अनुक्रमण के मामले में वैश्विक नेता ’है. स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट में कहा, एहतियात के तौर पर हम नॉटिंघम और चेम्सफोर्ड में लक्षित इलाकों की जांच करेंगे और संक्रमण की पुष्टि वाले सभी नमूनों का अनुक्रमण कराया जाएगा. हालात तेजी से बदल रहे हैं और हम लोक स्वास्थ्य की रक्षा के लिए निर्णायक कदम उठा रहे हैं.’’

यह भी पढ़ें

अन्य खबरें

जावेद ने ट्वीट किया, हम मलावी, मोजाम्बिक, जाम्बिया और अंगोला को भी यात्रा की रेड लिस्ट’ में जोड़ रहे हैं. यह आदेश रविवार सुबह 4 बजे से प्रभावी होगा. अगर आप पिछले 10 दिनों में इन देशों से लौटे हैं तो आपको पृथक-वास में रहने के साथ पीसीआर जांच करवानी होगी. अगर आप अपने बूस्टर खुराक के लिए योग्य हैं तो इसे प्राप्त करने का समय आ गया है.’’

Advertisement

दक्षिण अफ्रीका पर लगायी गयी यात्रा पाबंदी क्रूर’ और गलत दिशा में उठाया गया कदम’ : दक्षिण अफ्रीका

दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्री जो फाहला ने शुक्रवार को कहा कि कोविड के नए व संभावत ज्यादा संक्रामक स्वरूप के कारण एक के बाद एक कई देशों द्वारा उनके देश पर यात्रा पाबंदी लगाना क्रूर’ और गलत दिशा में उठाया गया कदम’ है. कोविड के नए स्वरूप बी.1.1.529 का सबसे पहले इस सप्ताह दक्षिण अफ्रीका में पता चला जिसे शुक्रवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चिंताजनक वैरिएंट’ की श्रेणी में रखा है एवं उसका नाम ओमीक्रोन रखा है.

फाहला ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, हम महसूस करते हैं कि यह गलत पहल है. यह गलत दिशा में उठाया गया कदम है और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा संस्तुत नियमों के विरूद्ध है. हम बस यह महसूस करते हैं कि (इन) देशों के नेतृत्व में से कुछ उस स्थिति से निपटने के लिए बलि का बकरा ढूढ रहे हैं जो एक वैश्विक समस्या है.’’

चिंताजनक वैरिएंट’ चिंता में डालने वाले कोविड-19 के विभिन्न वैरिएंट में डब्ल्यूएचओ की शीर्ष श्रेणी है. सबसे पहले 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में इसका पता चला था. बोत्सवाना, बेल्जियम, हांगकांग और इजराइल में भी इसकी पहचान की गयी है.

फाहला ने कहा, यह बड़ी विडंबना है कि हम आज दक्षिण अफ्रीका में छोटे से नमूने के बारे में चर्चा कर रहे हैं जबकि हम महज करीब 300 प्रति दिन के निम्न स्तर से 14 दिनों में मामलों में हो रही तीव्र वृद्धि को लेकर चिंतिंत है , हमारे यहां (रोजाना) 3000 तक मामले पहुंच रहे हैं. ’’

उन्होंने कहा, यह बड़ी वृद्धि है लेकिन कुछ उन देशों, जो बहुत सख्त तरीके से प्रतिक्रिया कर रहे हैं, से तुलना कीजिए, हम ऐसे देशों की चर्चा कर रहे हैं जहां रोजाना 40000 नये संक्रमण की बढ़ती संक्रमण दर है. ’’

मंत्री ने कहा , हम दोषारोपण नहीं करना चाहते लेकिन जिस तरह लोगों की आवाजाही से वायरस फैलता है, यह समझ से परे नहीं है कि ऐसा भी संभव है कि यह उन देशों में भी पैदा हो गया हो जो भीड़ प्रबंधन की दृष्टि से अधिक उदार हैं और जहां स्टेडियम में मास्क नहीं लगाया जाता या अन्य सावधानियां नहीं बरती जाती हैं.’’

यूरोप और अमेरिका के कई हिस्सों में खेलों के मैच एवं गीत-संगीत आदि कार्यक्रमों के वास्ते स्टेडियम खोल दिये गये हैं. पहाला ने कहा कि उन्हें पता है कि बृहस्पतिवार को दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों द्वारा नए स्वरूप का पता चलने की घोषणा करने डर और अनिश्चितता पैदा हुई है.

उन्होंने कहा, यह उस प्रकार की स्थिति में प्रत्याशित है जहां हम बढ़ते लक्ष्य से जूझ रहे हैं लेकिन हम दक्षिण अफ्रीका और दुनियाभर के लोगों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि हमारा मानना है कि कुछ कदम वाकई अनुचित हैं.’’ उन्होंने कहा, मैं यहां खासकर यूरोप के देशों की ओर इशारा कर रहा हूं.’’ ब्रिटेन ने दक्षिण अफ्रीका से आने-जाने वाली उड़ानों पर पाबंदी की बृहस्पतिवार को घोषणा की . उसके बाद कई अन्य यूरोपीय देशों ने यह कदम उठाया.

(इनपुट भाषा)

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date:November 27, 2021 10:34 PM IST

Updated Date:November 27, 2021 10:39 PM IST

Topics