PM Narendra Modi UNGA Speech: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के 74वें सत्र को संबोधित किया. अपने ऐतिहासिक भाषण में पीएम ने उम्मीद के मुताबिक़ विकास, सुरक्षा, स्वच्छता, आतंकवाद निरोधक कार्रवाई और जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दे पर बात की. प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में अपने भाषण से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और जर्मन चांसलर एंजिला मर्केल जैसे विश्व के शीर्ष नेताओं के साथ द्विपक्षीय मुलाकातें कीं.

पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने इस बार मुझे पहले से ज्यादा मजबूत जनादेश दिया है. 130 करोड़ भारतीयों की ओर से मुझे यहां बोलने का मौका मिल रहा है, ये मेरा सौभाग्य है. अपनत्व की भावना भारत की पहचान है. भारत में बीते पांच साल में इसी भावना को मजबूत करने का काम किया है. संयुक्त राष्ट्र का भी यही उद्देश्य है. पीएम मोदी ने कहा कि भारत जिन मुद्दों को उठा रहा है वो गंभीर विषयों के समाधान का सामूहिक प्रयास है. ग्लोबल वार्मिंग में भारत का योगदान बेहद कम रहा है.

पीएम मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी का सत्य और अहिंसा का संकल्प आज भी पूरी दुनिया में लोकप्रिय है. पीएम ने कहा कि हम उस देश के वासी हैं, जिसने दुनिया को युद्ध नहीं बुद्ध दिए हैं. पीएम मोदी ने कहा कि आज विश्व का स्वरुप बदल रहा है. 21वीं सदी में कई चीज़ें बदल रही हैं. ऐसे में दुनिया के पास अपने-अपने में सिमट जाने का दौर नहीं है. ऐसे में हमें नई दिशा देनी ही होगी.

पीएम ने आतंक की बात करते हुए कहा कि आतंकवाद की समस्या पूरी दुनिया की है. आतंक के खिलाफ पूरी दुनिया को एक होना होगा. भारत के पास आतंक के खिलाफ आवाज भी है और आक्रोश भी. मानवता की खातिर पूरे विश्व का आतंकवाद के खिलाफ होना अनिवार्य है. पीएम मोदी ने आतंकवाद की बात करते हुए कहा कि आतंक के खिलाफ दुनिया संयुक्त राष्ट्र के सिद्धांतों की ठेस पहुंचाती है.

पीएम मोदी ने कहा कि मैंने संयुक्त राष्ट्र की दीवार पर प्लास्टिक की रोकथाम का स्लोगन पढ़ा. मुझे ये बताते हुए गर्व हो रहा है कि भारत में हम सिंगल प्लास्टिक से मुक्त करने के लिए बड़ा अभियान चला रहे हैं. हमारा परिश्रम दिखावा नहीं, कर्तव्य भाव से प्रेरित है. सबका साथ, सबका विकास हमारा मंत्र है. जनकल्याण सिर्फ भारत के लिए नहीं हो, जग का कल्याण हो.