नई दिल्ली: गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को अनलॉक 1.0 में रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक लागू रात्रि कर्फ्यू को लेकर एक बार फिर स्थिति स्पष्ट की है. गृह मंत्रालय ने विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सलाह दी है कि बसों की आवाजाही और जरूरी सामान लेकर जा रहे ट्रकों को न रोका जाए. मंत्रालय ने कहा है कि जरूरी सेवाओं को छोड़कर अन्य लोगों के घरों से बाहर जाने पर रोक लगी रहनी चाहिए. Also Read - इशांत शर्मा ने कहा- 2013 के बाद महेंद्र सिंह धोनी को अच्छे से समझ पाया था

गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को स्पष्ट तौर पर कहा है कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेश राजमार्गों पर लोगों की बसों में आवाजाही को न रोकें. गृह मंत्रालय ने कहा कि ‘अनलॉक 1’ के दौरान आवश्यक गतिविधियों को छोड़कर, देशभर में रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक लोगों की आवाजाही को कड़ाई से प्रतिबंधित किया गया है. Also Read - देश में कोरोना के करीब 21 हजार नए केस, आंकड़ा 6.25 लाख के पार, 18 हजार से ज्‍यादा मौतें

गृह मंत्रालय ने कहा, “रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक लोगों की आवाजाही प्रतिबंधित करना लोगों को एकत्र होने से रोकने के लिए है, यह राजमार्गों पर चलने वाली बसों, ट्रकों पर लागू नहीं होता है.” इसके अलावा मंत्रालय ने राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों को राजमार्गों पर लोगों की बसों में आवाजाही, ट्रकों को नहीं रोकने की सलाह दी है. गृह मंत्रालय ने कहा कि इस बारे में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये जाने चाहिए. Also Read - इन चीजों में पाई जाती है कोरोना वायरस से लड़ने की औषधीय क्षमता, जानिए पूरी डिटेल

केंद्रीय गृह सचिव ने कहा, माल चढ़ाने/उतारने (आपूर्ति श्रृंखला और साजो-सामान लाने-ले जाने के तहत), राज्य एवं राष्ट्रीय राजमार्गों पर यात्रियों को ले जाने वाली बसों, ट्रकों तथा अन्य मालवाहक वाहनों या बसों, ट्रेनों तथा विमानों से उतरने के बाद अपने गंतव्यों की ओर जाने वाले लोगों पर प्रतिबंध लागू नहीं होता है.