नई दिल्‍ली: उत्तर प्रदेश के उन्नाव रेप केस (Unnao Rape Case) में तीस हजारी कोर्ट ने विधायक कुलदीप सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) के खिलाफ रेप, पॉक्सो, अपहरण के आरोप तय कर दिए हैं. विधायक कुलदीप सिंह सेंगर उन्नाव रेप केस में मुख्य अभियुक्त है. आज कुलदीप सिंह सेंगर को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पेश किया गया था. आरोप तय किए जाने के बाद सेंगर को तिहाड़ जेल भेज दिया गया. Also Read - उन्नाव रेप पीड़िता के पिता की हिरासत में हत्या के मामले में कुलदीप सेंगर को 10 साल की सजा

Also Read - उन्नाव रेपकांड के दोषी MLA कुलदीप सिंह सेंगर की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने CBI से मांगा जवाब

उन्नाव रेप पीड़िता की हालत खराब, 7 दिन बाद भी नहीं आया होश, गले में छेद कर दी जा रही ऑक्सीजन Also Read - भीम आर्मी नेता चंद्रशेखर आज़ाद को मिली जमानत, कोर्ट ने कहा- अब 4 हफ्ते तक दिल्ली से दूर रहें

जानकारों के अनुसार इसका मतलब ये है कि सेंगर के खिलाफ अब इन मामलों को लेकर मुकदमा चलेगा. बहस, साक्ष्यों के आधार पर अब आरोप सिद्ध होने के बाद कोर्ट सजा या कोई फैसला सुनाएगी. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ दर्ज पांच मामलों में से रेप पीड़िता के एक्सीडेंट का मामला छोड़ चार मामले तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) को ट्रांसफर किए हैं. ये 4 केस जिला जज धर्मेश शर्मा की कोर्ट में ट्रांसफर हुए है. तीस हजारी कोर्ट को 45 दिन में ट्रायल पूरा करना है. इस मामले में दिन प्रतिदिन दिन (डे टू डे हेयरिंग) सुनवाई होनी है.

उन्नाव रेप पीड़िता के साथ ‘हादसे’ पर अखिलेश ने सरकार से पूछा- एक बेटी की क्यों उजड़ी दुनिया, ऐसे होगा न्याय?

बता दें कि 2017 में उन्नाव के बांगरमऊ के बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर एक युवती ने रेप का आरोप लगाया था. ये मामला तब सुर्ख़ियों में आया था जब पीड़िता के पिता की पिटाई से मौत हो गई और पीड़िता ने लखनऊ में सीएम आवास के बाहर आत्मदाह का प्रयास किया. इसके बाद चले घटनाक्रम के बाद विधायक को अरेस्ट कर जेल भेज दिया गया. कुछ दिन पहले रेप पीड़िता अपनी मां, वकील, चाची और मौसी के साथ रायबरेली जा रही थी, तभी एक ट्रक में उनकी कार की ट्रक से टक्कर हो गई. चाची व मौसी की हो गई, जबकि पीड़िता व वकील की हालत गंभीर है. इन्हें पहले लखनऊ के केजीएमसी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां से एम्स, दिल्ली लाया गया. एम्स में दोनों की अब तक हालत गंभीर है. और लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं. ये दुर्घटना कराने का आरोप भी कुलदीप सिंह सेंगर पर ही है. सेंगर के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है.

रेप पीड़िता के एक्सीडेंट पर कुमार विश्वास का ट्वीट, ‘वरना देश पर गर्व तो दूर यहां जीना भी दूभर होगा’

इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है. सीबीआई विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे रेप के आरोपों की पुष्टि कर चुकी है. सीबीआई ने जांच में यह भी पाया था कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने कुलदीप सिंह सेंगर और अन्य आरोपियों का नाम एफआईआर में दर्ज नहीं कर उन्हें बचाने की कोशिश की थी. उन्नाव गैंगरेप केस में सीबीआई ने पीड़िता द्वारा लगाए गए उन आरोपों की पुष्टि की है जिसमें उसने कहा था कि 2017 में 4 जून को बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उसका रेप किया था, जबकि उस दौरान उनकी महिला सहयोगी शशि सिंह कमरे के बाहर पहरा दे रही थी.

उन्नाव गैंगरेप: CBI ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे रेप के आरोप की पुष्टि की