भारतीय रेलवे अब धार्मिक यात्रा पर जाने के इच्छुक तीर्थयात्रियों के लिए नई पहल करने जा रहा है। रेलवे अब सात ज्योर्तिलिंगों के साथ शिरडी के साईं बाबा के भी दर्शन कराएगा। यह धार्मिक यात्रा वाराणसी कैंट स्टेशन से सात सितंबर को रवाना होगी। आईआरसीटीसी के मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक अश्विनी श्रीवास्तव ने बताया कि इस धार्मिक यात्रा का पहला ठहराव उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर होगा।

उन्होंने बताया कि 12 दिन की इस यात्रा के लिए सुल्तानपुर, लखनऊ, कानपुर, आगरा कैंट व झांसी से ट्रेन ली जा सकती है। ज्योतिर्लिगों के दर्शन के लिए यात्रा शुल्क 10 हजार रुपये हैं। उज्जैन के बाद ओंकारेश्वर, नागेश्वर, सोमनाथ, त्रयम्बकेश्वर, भीमाशंकर, घृणेश्वर जैसे प्रमुख ज्योतिर्लिग के दर्शन पूजन कराए जाएंगे। विशेष रेलगाड़ी शिरडी साईं धाम और एलोरा की गुफाओं के भी दर्शन कराएगी। इसके साथ ही द्वारकाधीश मंदिर का पड़ाव भी इस धार्मिक यात्रा में शामिल है।

इसके साथ ही 22 से 30 सितम्बर तक जयपुर से गंगा सागर और जगन्नाथपुरी के लिए विशेष ट्रेन चलाई जाएगी। इन धार्मिक स्थलों के लिए श्रद्घालुओं को 7,530 रुपये खर्च करने होंगे। यह भी पढ़ें: रेलवे: प्रतिदिन 830 रुपये में खाने और ठहरने के साथ कीजिए भारत दर्शन

इस यात्रा में वाराणसी के बाबा विश्वनाथ व गंगा आरती, गया के विष्णुपाद मंदिर व महाबोधि मंदिर, कोलकाता के गंगा सागर व काली मंदिर, पुरी के जगन्नाथ मंदिर, भुवनेश्वर के कोणार्क मंदिर व लिंगराज मंदिर और जसडीह के बैद्यनाथ मंदिर के दर्शन कराए जाएंगे।

आईआरसीटीसी की इस धार्मिक यात्रा में सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया गया है। धार्मिक स्थलों के आसपास के छोटे-छोटे पर्यटन स्थलों की भी यात्रा कराई जाएगी। इसके लिए बस का भी इंतजाम रहेगा। यात्रा के दौरान नाश्ता और शाकाहारी भोजन भी मिलेगा। यात्रियों के ठहरने के लिए धर्मशालाओं का इंतजाम होगा।