नई दिल्ली। यूपी-बिहार उपचुनाव में बीजेपी की करारी हार के साइड इफेक्ट अब दिखने लगे हैं. उपचुनाव में हार के बाद बीजेपी और शीर्ष नेताओं पर अब अपने ही वार करने लगे हैं. कुछ नेता आलाकमान को नसीहत दे रहे हैं साथ ही इशारों-इशारों में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पर भी हमला बोल रहे हैं. बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी, बागी नेता और सांसद शत्रुघ्न और एक पूर्व सांसद ने अपनी ही पार्टी पर हमला बोला है. दोनों नेताओं ने पार्टी को इस हार पर मंथन की सलाह दी है.Also Read - West Bengal News: पश्चिम बंगाल में दिलीप घोष की जगह सुकांता मजूमदार बने BJP प्रदेश अध्यक्ष

स्वामी का इशारों-इशारों में योगी पर हमला Also Read - उमा भारती ने कहा- अफसरों की औकात ही क्या, वो हमारी चप्पल उठाते हैं, नेता उनकी...

एक चैनल से बातचीत में स्वामी ने इशारों-इशारों में सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि अपनी सीट तक न जीत पाने वाले लोगों को बड़े पद देना लोकतंत्र में आत्महत्या करने जैसा है. स्वामी ने कहा कि जनता में लोकप्रिय नेताओं को पद नहीं मिल रहे. अभी भी समय है कि हम संभल जाएं. Also Read - महंत नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट में किया था शिष्य आनंद का जिक्र, उत्तराखंड पुलिस ने हरिद्वार से हिरासत में लिया

फिर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा

शत्रुघ्न सिन्हा ने यूपी-बिहार उपचुनाव के नतीजों को लेकर एक बार फिर इशारों-इशारों में अपनी ही पार्टी को निशाने पर लिया है. उन्होंने ट्वीट के जरिए पार्टी को नसीहत देते हुए समय पर सावधान होने को कहा है. सिन्हा ने ट्वीट किया- सर, उत्तर प्रदेश और बिहार के उपचुनाव नतीजे आपको और हमें अपनी सीटबेल्ट कसकर बांधने को कह रहे हैं. आने वाला समय काफी कठिन है. उम्मीद है कि हम इस संकट से जल्द ही उबर जाएंगे. ये जितनी जल्दी हो सके हमारे लिए उतना ही अच्छा होगा. ये नतीजे हमारे राजनीतिक भविष्य के बारे में कई बातें कर रहे हैं, इसे हल्के में नहीं लिया जा सकता.

वहीं, पूर्व बीजेपी सांसद रमाकांत यादव ने भी एक न्यूज चैनल से बात करते हुए बिना नाम लिए सीएम योगी को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि दलितों पिछड़ों की उपेक्षा हुई जिससे बीजेपी को हार मिली. दलितों-पिछड़ों को उनका हक दें, उनको फेंका जा रहा है, 2019 में इसका परिणाम बुरा होगा. एक पूजा करने वाला आदमी कितना सरकार चलाएगा. उन्होंने कहा कि राज्य में एक खास जाति के लोगों को निशाना बनाया गया.

गोरखपुर-फूलपुर में करारी हार

बता दें कि सपा ने केंद्र और उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ बीजेपी को करारा झटका देते हुए गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में जीत हासिल की है. इन परिणामों ने बीजेपी को इस गठजोड़ के खिलाफ नए सिरे से रणनीति बनाने पर मजबूर कर दिया है. इसी के साथ विपक्ष भी सक्रिय हो उठा है. माया-अखिलेश गठजोड़ ने विपक्ष को एक सात आने का संदेश दे दिया है. बीजेपी के खिलाफ एक मंच पर आने की कवायद कई बार की गई लेकिन सिरे नहीं चढ़ सकी. माया-अखिलेश ने साथ आकर इसे सच कर दिखाया और नतीजा सबके सामने है.