प्रधानमंत्री ने राज्यसभा में शुक्रवार को कहा कि यदि सांसद जीएसटी बिल को पास करा जाते तो इसका फायदा उत्तरप्रदेश और बिहार को मिलता। सांसद जनता के प्रतिनिधि है और यदि वे इस बिल को पास करवाते तो जनता को उन पर गर्व होता। Also Read - JP Nadda Birthday: ABVP के छात्र नेता से लेकर BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष तक, जेपी नड्डा ने ऐसे छुईं ऊँचाईयां

Also Read - काशी: पीएम मोदी ने किया 'देव दीपावली' का आगाज: विपक्ष पर साधा निशाना, 'कुछ लोगों के लिये विरासत का मतलब परिवार से है'

सांसदों ने अपने-अपने विचारों से देश की तरक्की में अपना योगदान दिया है। भले ही वे उनका कार्यकाल खत्म हो रहा हो, सदन से उनकी विदाई हो रही हो लेकिन सांसद का यह कर्तव्य होता है कि वह देश के विकास में अपना योगदान दें। Also Read - पीएम मोदी ने बाबा विश्वनाथ की पूजा की, प्रसाद में मिला भस्मी और दुपट्टा, देखें वीडियो

जीएसटी बिल काफी समय से लंबित है ये यदि विदाई से पहले सांसद इस बिल को पास करवा जाते तो जनता को उन पर गर्व होता। क्योंकि इस बिल से उत्तरप्रदेश और बिहार के अलावा अन्य राज्यों को काफी फायदा होगा। यह भी पढ़े : जीएसटी विधेयक में विलंब, आने वाले हैं अन्य अहम विधेयक : जेटली

राज्यसभा से 53 सांसदो की विदाई आज

गौरतलब है कि आज राज्यसभा के 53 सांसदो का कार्यकाल खत्म हो रहा है। इनके स्थान पर नए सांसदो के चुनाव होगें।

11 जून को होंगे 57 सीटों पर चुनाव

राज्यसभा की 57 सीटों पर 11 जून को चुनाव होंगे। इसमे शराब कारोबारी विजय माल्या की भी एक सीट शामिल है। राजस्थान और कर्नाटक से एक-एक सीट आनंद शर्मा और विजय माल्या द्वारा खाली की गई है।