मुजफ्फरनगर: यूपी बोर्ड परीक्षा के दौरान बड़ी लापरवाही सामने आई है. सोमवार को मुजफ्फरनगर के एक इंटर कॉलेज में परीक्षा के दौरान बायोलॉजी और कॉमर्स के प्रथम प्रश्नपत्र की जगह द्वितीय के पेपर बांट पेपर दिए. जबकि यह पेपर सात मार्च यानी बुधवार को होने हैं. इस मामले में परीक्षा केंद्र के नियंत्रक समेत छह लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. Also Read - UP Board Exam 2020: पहले दिन हाईस्कूल-इंटर के इतने लाख छात्र-छात्राओं ने छोड़ी परीक्षा

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, सोमवार को कक्षा 12वीं के द्वितीय पारी में बायोलॉजी प्रथम और कॉमर्स प्रथम का पेपर था, लेकिन कॉलेज के व्यवस्थापक और कॉलेज प्रशासन की गलती के चलते बुधवार यानि 7 मार्च को होने वाले बायोलॉजी द्वितीय और कॉमर्स द्वितीय के पेपर खोलकर बच्चों को बांट दिए गए. द्वितीय प्रश्नपत्र देखकर छात्रों में अफरातफरी मच गई. इस दौरान सूचना पर मौके पर पहुंचे जिला विद्यालय निरीक्षक मुनेश कुमार ने बच्चों से बायोलॉजी द्वितीय और कॉमर्स द्वितीय के पेपर वापस लेकर उन्हें दोबारा सीज कर दिए. जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि बायोलॉजी और कॉमर्स के द्वितीय प्रश्नपत्र की परीक्षा सात मार्च को होनी थी. लेकिन छह मार्च को होने वाली इन विषयों के प्रथम प्रश्नपत्र की परीक्षा में छात्रों को द्वितीय प्रश्नपत्र बांट दिए गए. इस मामले की सूचना उत्तर प्रदेश बोर्ड के अधिकारियों को दे दी गई . पुलिस ने बताया कि छह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है. साथ ही उन्हें तत्काल प्रभाव के साथ परीक्षा केंद्र से हटा दिया गया. Also Read - UP Board: यूपी बोर्ड ने बढ़ाई 9वीं से 12वीं कक्षा तक की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया, ये होगी अंतिम तारीख

Also Read - UP: government withdrawn Aadhaar card requirement in board exams | यूपी: अब बोर्ड परीक्षाओं में आधार कार्ड की अनिवार्यता खत्म