लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार का 2019-20 के लिए 4,79,701.10 करोड़ रुपए के व्यय का बजट गुरुवार को राज्य की विधानसभा में पेश किया गया. यूपी की योगी सरकार ने अपने एजेंडे में शामिल शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा, समाज कल्याण विभाग कृषि, गाय, धार्मिक पर्यटन समेत कई क्षेत्रों के लिए बजट में अच्छा खास प्रावधान किया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल बजट का ब्रीफकेस लेकर विधानसभा में पहुंचे और सदन की टेबल पर बजट पेश किया. वित्तीय वर्ष 2019—20 में 27,777.36 करोड़ रुपए की राजस्व बचत का अनुमान है. वहीं, राजकोषीय घाटा 46,910.62 करोड़ रुपए रहने का अनुमान जताया गया है.

 

लोकसभा में गडकरी की इस बात सोनिया और खड़गे ने थपथपाई मेजें

देश के 8 शहरों के बिल्डर्स पर है 4 लाख करोड़ का लोन, सेल न होने से हो रहा नुकसान

1- उत्तर प्रदेश सरकार का 2019-20 के लिए 4,79,701.10 करोड़ रुपए के व्यय का नया बजट पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 12 प्रतिशत अधिक है. बजट में 21,212.95 करोड़ रुपए की नई योजनाएं शामिल की गई हैं. बजट में वर्ष 2019—20 के दौरान कुल 4,70,684.48 करोड़ रुपए की प्राप्तियां अनुमानित हैं.

2. छात्रवृत्ति के लिए 4,433 करोड़, बुजुर्ग पेंशन के लिए 2,579 करोड़ रुपए
– उत्तर प्रदेश सरकार ने 2019—20 के बजट में निर्धन विद्यार्थियों की छात्रवृत्ति के लिए 4,433 करोड़ रुपए
-विभिन्न वर्गों के निर्धन छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति के लिए कुल 4,433 करोड़ रुपये का प्रस्ताव है
– अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं के लिए 2,037 करोड़ रुपए, पिछड़ा वर्ग के लिए 1,516 करोड़ रुपए, सामान्य वर्ग के लिए 850 करोड़ रुपए और अनुसूचित जनजाति के लिए 30 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई

3 बुजुर्गों और किसानों की पेंशन के लिए 2,579 करोड़ रुपए का प्रावधान किया
– प्रदेश में गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले परिवारों की पुत्रियों के विवाह के लिए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत 250 करोड़ रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित है.

– बजट में राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के तहत 500 करोड़ रुपए का प्रस्ताव किया गया है

– अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति के लिए 942 करोड़ रुपए की व्यवस्था है
– बजट में दिव्यांगों के भरण-पोषण अनुदान के लिए 621 करोड़ रुपए का प्रावधान

– जबकि कुष्ठावस्था विकलांग भरण-पोषण अनुदान के मद में 30 करोड़ रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित

4 . अनुमानित प्राप्तियों में 3,91,734.40 करोड़ रुपए की राजस्व प्राप्तियां और 78,950.80 करोड़ रुपए की पूंजीगत प्राप्तियां शामिल हैं

5 . वित्तीय वर्ष 2019—20 में 27,777.36 करोड़ रुपये की राजस्व बचत राजकोषीय घाटा 46,910.62 करोड़ रुपए रहने का अनुमान

6 . करीब 448 करोड़ रुपए की व्यवस्था बजट में लावारिस गोवंशीय पशुओं के रखरखाव और गौशालाओं के निर्माण के लिए की गई है

7 . ग्रामीण क्षेत्रों में गौवंशीय पशुओं के रख-रखाव एवं गौशाला निर्माण कार्य के लिए 247.60 करोड़ रुपए आवंटित किए गए. शहरी क्षेत्रों में कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना के लिए 200 करोड़ रुपए का प्रावधान

8 . गौवंश संवर्द्धन के लिए पशुपालन एवं दुग्ध विकास के अलावा अन्य विभागों का भी सहयोग लिया जा रहा है

9 शराब की बिक्री पर विशेष शुल्क से मिलने वाले करीब 165 करोड़ रुपय का उपयोग निराश्रित एवं बेसहारा गौवंशीय पशुओं के भरण-पोषण के लिए होगा

10. सरकार ने बजट में पंडित दीन दयाल उपाध्याय लघु डेयरी योजना के संचालन के लिए 64 करोड़ रुपए की व्यवस्था की है. तहत 10 हजार इकाइयों की स्थापना प्रस्तावित है. मथुरा में नई डेयरी की स्थापना के लिए 56 करोड़ रुपए की बजट व्यवस्था की गई है

11 . बजट में उत्तर प्रदेश दुग्ध नीति, 2018 के तहत विभिन्न कार्यक्रमों के लिए पांच करोड़ रुपए की व्यवस्था

12 . दुग्ध संघों और समितियों का सुदृढ़ीकरण, पुनर्गठन एवं विस्तारीकरण, कृषक प्रशिक्षण, तकनीकी निवेश, पशु प्रजनन और स्वास्थ्य कार्यक्रम योजनाओं के लिए 93 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है

13 . 1000 करोड़ रुपए एयरपोर्ट्स के लिए: 800 करोड़ रुपए जेवर एयरपोर्ट और 200 करोड़ रुपए अयोध्या में खर्च किए जाएंगे.

14 . 459 करोड़ रुपए अरबी/पर्शियन भाषी मदरसाओं के लिए खर्च किए जाएंगे

15. अयोध्या, काशी और मथुरा के विकास के लिए 462 करोड़ रुपए का प्रावधान
योगी आदित्यनाथ सरकार ने 2019—20 के लिए गुरुवार को पेश बजट में अयोध्या, काशी और मथुरा में विभिन्न विकास परियोजनाओं के लिए 462 करोड़ रुपए की व्यवस्था की है.

– बजट में वाराणसी में गंगा तट से विश्वनाथ मंदिर तक मार्ग के विस्तारीकरण एवं सौन्दर्यीकरण के लिए 207 करोड़ रुपए
– काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी में वैदिक विज्ञान केन्द्र की स्थापना के लिए 16 करोड़ रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित की गई
– मथुरा-वृन्दावन के बीच ऑडिटोरियम के निर्माण के लिए 8 करोड़ 38 लाख रुपए का प्रस्ताव किया गया है
– सार्वजनिक रामलीला स्थलों में चहारदीवारी निर्माण के लिए पांच करोड़ रुपए प्रस्तावित
– वृंदावन शोध संस्थान के सुदृढ़ीकरण के लिये एक करोड़ रुपए का प्रावधान
– उत्तर प्रदेश बृज तीर्थ में अवस्थापना सुविधाओं के लिये 125 करोड़ रुपए की व्यवस्था
– अयोध्या के प्रमुख पर्यटन स्थलों के समेकित विकास के लिए 101 करोड़ रुपए का प्रावधान
– पर्यटन नीति 2018 के क्रियान्वयन के लिए 70 करोड़ रुपए और प्रो-पुअर टूरिज्म के लिए 50 करोड़ रुपए

– प्रयागराज में ऋषि भारद्वाज आश्रम एवं श्रृंगवेरपुर धाम, विन्ध्याचल एवं नैमिषारण्य का विकास, बौद्ध परिपथ में सारनाथ, श्रावस्ती, कुशीनगर, कपिलवस्तु, कौशाम्बी एवं संकिसा का विकास
– शाकुम्भरी देवी एवं शुक्रताल का विकास, राजापुर चित्रकूट में तुलसी पीठ का विकास, बहराइच में महाराजा सुहेलदेव स्थल एवं चित्तौरा झील का विकास
– लखनऊ में बिजली पासी किले का विकास किया जाना प्रस्तावित है.